Home » उत्तर प्रदेश » BHU Chief Proctor had to resign after removing the RSS flag
 

BHU की चीफ प्रॉक्टर को RSS का झंडा हटाने पर देना पड़ा इस्तीफ़ा, केस भी दर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 November 2019, 11:03 IST

मिर्जापुर में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के दक्षिणी परिसर के डिप्टी चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ बुधवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के झंडे को हटाने के आरोप में केस दर्ज किया गया है. चीफ प्रॉक्टर किरण दामले ने इस घटना के बाद मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया. उन पर धर्म और जाति के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण परिसर के प्रोफेसर राम देवी निमनमपल्ली ने मीडिया को बताया "उनके इस्तीफे को बीएचयू के प्रमुख प्रॉक्टर ओपी राय को भेज दिया गया है. प्रशासन तय करेगा कि क्या इस्तीफा स्वीकार या अस्वीकार किया जाना है."

यह घटना मंगलवार को परिसर में एक आरएसएस शिविर के दौरान हुई. जहां छात्रों ने प्रॉक्टर के खिलाफ प्रदर्शन किया और डामले के इस्तीफे की मांग की, उनपर आरएसएस के ध्वज का अपमान करने का आरोप लगाया गया. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार स्टेशन हाउस ऑफिसर, कोतवाली देहात, अभय कुमार सिंह ने कहा कि स्थानीय आरएसएस पदाधिकारी चंद्रमोहन की शिकायत के आधार पर दामले के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. 

रिपोर्ट के अनुसार आरएसएस के मिर्जापुर जिला विंग के प्रमुख चंद्रमोहन ने बताया "12 नवंबर को बीएचयू साउथ कैंपस में संघ के कार्यक्रम का आयोजन पिछले सात सालों से हो रहा है. सुबह 7 बजे, किरण दामले ने भगवा ध्वज को उखाड़ फेंका और उसे फर्श पर फेंक दिया. वहां मौजूद सभी स्वयंसेवकों ने उन्हें बताया कि ध्वज का धार्मिक कारणों से महत्व है. इसके बाद डामले ने मौखिक रूप से स्वयंसेवक नीरज द्विवेदी और वहां मौजूद अन्य लोगों के साथ दुर्व्यवहार किया''.

रिपोर्ट के अनुसार दामले जो बीएचयू में सहायक निदेशक (खेल) भी हैं, ने कहा कि कुछ छात्रों ने बाद में उन्हें बताया कि यह आरएसएस का झंडा था. मैंने उन्हें बताया कि मुझे नहीं पता था क्योंकि उस पर कुछ भी नहीं लिखा था. दामले ने कहा “मैंने उनसे कहा कि वे अपनी गतिविधियों का संचालन कर सकते हैं, लेकिन झंडा नहीं लगाना चाहिए क्योंकि यह एक संवेदनशील समय है. दोपहर बाद विश्वविद्यालय में मेरे इस्तीफे की मांग को लेकर एक विरोध प्रदर्शन किया गया.

प्रदर्शनकारियों में से अधिकांश बाहर के थे. दामले ने कहा कि उन्होंने छात्रों और प्रदर्शनकारियों से माफी भी मांगी. उन्होंने कहा कि एक माफी पर्याप्त नहीं है और मुझे इस्तीफा दे देना चाहिए. " दामले ने कहा “मैंने उनसे कहा कि अगर ऐसा है तो मैं इस्तीफा दे दूँगी. मैंने अपना इस्तीफा मंगलवार को डिप्टी चीफ प्रॉक्टर के पद से दिया. फिर कुछ लोगों ने मुझे बताया कि वे मेरे खिलाफ एक एफआईआर भी दर्ज करेंगे. मैं चुप थी क्योंकि मैंने कुछ भी गलत नहीं किया था."

बाल दिवस: पहले 20 नवंबर को मनाया जाता था, कांग्रेस सरकार ने बदलकर किया था 14 नवंबर

First published: 14 November 2019, 10:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी