Home » उत्तर प्रदेश » bsf jawan threat if not get justice will be paan singh tomar to pm modi and yogi adityanath
 

पीएम मोदी से बोला BSF जवान- मदद नहीं मिलने पर हथियार उठाकर बन जाएगा 'पान सिंह तोमर'

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2018, 14:12 IST

बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव के बाद एक और जवान का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने सरकार के खिलाफ बगावत करने की धमकी दी है और पान सिंह तोमर जैसे हथियार उठाने की बात कही है. बीएसएफ का यह जवान बंगाल बॉर्डर पर तैनात है.

सहारनपुर के गंगोह के गांव तातारपुर निवासी BSF जवान अजय सिंह बीएसएफ की 102 बटालियन में तैनात है. उन्होंने अपने परिवार के खिलाफ हो रहे अत्याचार के खिलाफ न्याय की गुहार लगाई है. उन्होंने एक वीडियो बनाकर पीएम नरेंद्र मोदी और सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपने परिवार के लिए न्याय की गुहार लगाई है.

 

वीडियो में जवान ने धमकी भी दी है कि यदि उसे और उसके परिवार को न्याय नहीं मिला तो वह पान सिंह तोमर की तरह हथियार उठा लेगा. दरअसल, अजय ने आरोप लगाया है कि गांव के ही प्रधान और कुछ अन्य लोगों ने मिलकर उसकी जमीन पर कब्जा कर लिया है और उनकी लहलहाती फसल पर ट्रैक्टर चलवा दिया है.

अजय ने बताया कि प्रधान के इस कृत्य का विरोध करने पर उनके पिता और परिवार से बदसलूकी की गई है. जब अजय ने पुलिस और प्रशासन से इसकी शिकायत की तो उसे इंसाफ तो नहीं मिला बल्कि उल्टे मुकदमे में फंसाने की धमकी मिली. आरोप है कि पांच जनवरी को अजय के पिता सरदारा सिंह, भाई प्रमोद कुमार समेत अन्य रिश्तेदारों और घर की महिलाओं के साथ यूपी की पुलिस ने न केवल अभद्रता की बल्कि मारपीट भी की थी. अजय के पिता को पुलिस ने नामजद करके जेल में डाल दिया है जबकि कॉलेज में पढ़ने वाली बहनों को नामजद किया गया है.

इस वीडियो में अजय कुमार साफ कहता नजर आ रहा है, "मैंने सरहद की रक्षा के लिए हथियार उठाए हैं और मुझे इतना मजबूर मत करो कि अब मैं अपने परिवार की रक्षा के लिए हथियार उठा लूं, जिसका जिम्मेदार पुलिस-प्रशासन होगा."

 

तेज बहादुर यादव ने खाने पर उठाए थे सवाल
गौरतलब है कि कुछ महीने पहले बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव ने बीएसएफ मेस में मिल रहे भोजन की खराब क्वालिटी पर सवाल उठाते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया था. जो बड़े पैमाने पर वायरल हुआ था. इसके बाद एनआईए ने विदेशी तत्वों के साथ उनके संबंध होने की आशंका जताई थी और उस बाबत जांच करने का फैसला किया था.

इस दौरान एनआईए ने तेज बहादुर यादव के फेसबुक और ट्विटर प्रोफाइल की जांच की. साथ ही फोन पर हुई बातचीत के ब्यौरे अलावा उनका इलेक्ट्रॉनिक डेटा भी खंगाला. लेकिन बाद में तेज बहादुर यादव को नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी से क्लीन चिट मिल गई थी.

First published: 6 February 2018, 13:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी