Home » उत्तर प्रदेश » Chhattisgarh RTI Activist Demand Krishna Birth Certificate And Proof Of Lord
 

RTI से मांगा कृष्ण का बर्थ सर्टिफिकेट और भगवान होने के सबूत, जवाब देने को लेकर प्रशासन परेशान

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 October 2018, 10:09 IST

RTI यानि सूचना का अधिकार के तरह लोग ना जाने क्या-क्या जानकारियां शासन प्रशासन से मांग लेते हैं. ऐसी ही एक अर्जी मथुरा प्रशासन को मिली है. जिसमें एक शख्स ने भगवान कृष्ण का जन्म प्रमाण पत्र और उनके भगवान होने जैसे कई सबूत मांगे गए हैं. ये आरटीआई छत्तीसगढ़ के एक शख्स ने फाइल की है.

दरअसल, छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जनपद के गुमा गांव के आरटीआई कार्यकर्ता जैनेंद्र कुमार गेंदले ने जनसूचना अधिकार अधिनियम - 2005 के तहत 10 रुपए का पोस्टल ऑर्डर भेजकर मथुरा जिला प्रशासन से पूछा है कि, "विगत 3 सितम्बर को देश भर में कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर अवकाश घोषित कर भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाया गया था. इसलिए कृपया उन्हें भगवान श्रीकृष्ण के जन्म प्रमाणपत्र की प्रमाणित प्रतिलिपि उपलब्ध कराई जाए. जिससे यह सिद्ध हो सके कि उनका जन्म उसी दिन हुआ था.”

यही नहीं जैनेंद्र ने प्रशासन से आरटीआई के जरिए ये भी पूछा है कि उन्हें बताया जाए कि क्या वे सच में भगवान थे ? और थे, तो कैसे ? उनके भगवान होने की प्रमाणिकता भी उपलब्ध कराई जाए. गेंदले ने यह भी पूछा है कि भगवान कृष्ण का गांव कौन सा था ? उन्होंने कहां-कहां लीलाएं कीं.

जवाब देने में प्रशासन के फूटे हाथ-पैर!

गेंदले के अजीबोगरीब सवालों से पशोपेश में पड़े एडीएम (कानून एवं व्यवस्था) रमेश चंद्र का कहना है कि जन मान्यता एवं निजी आस्था से जुड़े इन सवालों के क्या जवाब दिए जाएं, इसे लेकर फिलहाल असमंजस में हैंउन्होंने कहा, "हिन्दू धर्म से संबंधित तमाम ग्रंथों, पुस्तकों आदि में इस प्रकार के वर्णन मौजूद हैं कि भगवान कृष्ण का जन्म द्वापर युग में तत्कालीन शौरसेन (जिसे वर्तमान में मथुरा के नाम से जाना जाता है) जनपद में हुआ था और उन्होंने यहां के राजा कंस का वध करने के पश्चात द्वारिका गमन से पूर्व पग-पग पर अनेक लीलाएं की थीं.’ इसलिए धार्मिक आस्था से जुड़े ऐसे सवालों के क्या जवाब दिए जाएं, इस पर विचार किया जा रहा है.”

ये भी पढ़ें- 80 साल पुराने आइडिया पर इस देश के इंजीनियर्स ने किया ऐसा काम कि बना दी नदी के ऊपर नदी

First published: 3 October 2018, 10:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी