Home » उत्तर प्रदेश » CM Yogi Adityanath did many appointments without departmental recommendation claims by RTI activist
 

UP: CM योगी आदित्यनाथ ने विभाग की सिफारिश के बिना कर दी कई नियुक्तियां !

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 October 2018, 11:16 IST

उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा की गई नियुक्तियों पर सवाल उठ रहे हैं. आरटीआई कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने सरकार की नियुक्तियों पर निशाना साधा है. बता दें कि नूतन ठाकुर वरिष्ठ आईपीएस अमिताभ ठाकुर की पत्नी हैं. नूतन ठाकुर ने दावा किया है कि बिना विभागीय सिफारिश लिए ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के स्तर से कई नियुक्तियां कीं गईं हैं.

नूतन ने यह दावा कथित आरटीआई अर्जी पर मिले जवाब के आधार पर किया है. बता दें कि सीएम योगी समाज कल्याण विभाग में नियुक्तियां करते रहे हैं. इसमें दावा किया गया है कि अनुसूचित जाति, वित्त एवं विकास निगम विभाग के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति सीधे ऊपर से हुई है. नूतन ठाकुर को आरटीआई के तहत दी गई सूचना से यह सामने आया है.

पढ़ें- एयरफोर्स डे की रिहर्सल के दौरान हुआ बड़ा हादसा, बागपत में क्रैश हुआ वायुसेना का विमान

नूतन ठाकुर के अनुसार, समाज कल्याण विभाग को इसी साल 17 अप्रैल को उच्चस्तर से आदेश प्राप्त हुआ कि निगम के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति संबंधित पत्रावली प्रस्तुत की जाए. इस पर अनुभाग ने लिखा कि विभाग में नियुक्तियां सीधे मुख्यमंत्री करते हैं.

17 अप्रैल को प्रमुख सचिव तथा समाज कल्याण मंत्री के स्तर से मुख्यमंत्री को प्रस्तुत की गई पत्रावली पर बिना किसी विभागीय संस्तुति के सीएम योगी ने डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल को अध्य्क्ष नामित करने के आदेश दे दिए. आरटीआई के अनुसार, 17 अप्रैल को ही बिना किसी विभागीय संस्तुति के विभाग से सीधे पत्रावली मंगवाकर पूर्व आईपीएस बृजलाल को उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति जनजाति आयोग का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया.

पढ़ें- कांग्रेस नेता खड़गे का बयान- BJP, RSS के घर से एक कुत्ते ने भी नहीं दिया आजादी के लिए बलिदान

वैसे ही 7 अगस्त को प्रमुख सचिव मनोज सिंह के जरिये विभाग को ऊपर से एक सूची मिली, इस सूची में 2 उपाध्यक्ष, 16 सदस्य समेत 18 लोगों के नाम थे. प्रमुख सचिव ने उसी दिन प्रस्ताव भेजा, जिस पर मंत्री रमापति शास्त्री ने 8 अगस्त को हस्ताक्षर बनाए तथा मुख्यमंत्री ने 10 अगस्त को आदेश कर दिया. नूतन ठाकुर के मुताबिक, आरटीआई द्वारा मिली इस सूचना से शासन के निर्णयों में उच्चस्तरीय राजनैतिक दवाब की बात खुद ब खुद सामने आ जाती है.

First published: 5 October 2018, 11:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी