Home » उत्तर प्रदेश » CM Yogi: cow are not saved by speaking gomata ki jai
 

योगी: गोमाता की जय बोलने से नहीं होगा गायों का संरक्षण

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2017, 11:54 IST
COW

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि केवल ‘गोमाता की जय’ बोलने मात्र से गाय का संरक्षण नहीं होगा, बल्कि इसके लिये ईमानदारी से अपने स्तर से भी प्रयास किए जाने चाहिये.

योगी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा के अभिनन्दन समारोह में कार्यकर्ताओं से कहा कि गोमाता की जय बोलने से गाय का संरक्षण नहीं हो पाएगा. जय बोलें लेकिन ईमानदारी से अपने स्तर से भी प्रयास करें, तभी गोमाता बच पाएंगी.

उन्होंने गोवंश की सुरक्षा सम्बन्धी अपनी सरकार की प्राथमिकता को दोहराते हुए कहा कि गोकशी और गोतस्करी पर रोक लगायी गई है, और इसके विरुद्ध काम करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

योगी ने कार्यक्रम में मौजूद कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि अपने दायित्वों के प्रति हमें जागरूक होना होगा. हमें अपने बीच की कुरीतियों को दूर करना होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने हर जाति के महापुरुषों को जाति के आधार पर बांट दिया है. यह घोर पाप है. उन्होंने कहा कि वंदे मातरम ने आजादी के प्रति नई जान फूंकी है. लेकिन आज हम इसे दुर्भाग्य कहें कि इसे सांप्रदायिकता की राजनीति के साथ जोड़ा गया है. हमें अपने महापुरुषों के प्रति जागरूक होने की जरूरत है.

महापुरुषों के जन्मदिन पर दी जाने वाली छुट्टी खत्म करने का औचित्य बताते हुए योगी ने कहा कि उस दिन विद्यालयों में महापुरुषों के जीवन-दर्शन, व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर चर्चाएं की जाएंगी, जिससे आज की पीढ़ी उनके विषय में जानकारी प्राप्त कर सके.

योगी ने एक अन्य कार्यक्रम में कहा कि प्रिंट मीडिया की प्रासंगिकता कभी खत्म नहीं होगी. उसी प्रकार विजुअल मीडिया भी नये परिवेश में अपने महत्व को स्थापित कर रहा है, लेकिन अगर जनभावनाओं की अनदेखी की गयी तो सोशल मीडिया इन दोनों को पछाड़ सकता है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में यही एक बड़ी चुनौती है, इसलिये मीडिया को अपनी विश्वसनीयता बनाये रखनी होगी. अगर इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाले समय में लोग अखबार नहीं पढ़ेंगे और टीवी भी नहीं देखेंगे, क्योंकि उनकी जेब में रखा एक मोबाइल फोन उन्हें सूचनाएं उपलब्ध करा देगा.

सोशल मीडिया आजकल इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि कुछ सेकेंड में सूचनाएं या खबरें करोड़ों लोगों तक पहुंच जाती हैं.

First published: 1 May 2017, 11:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी