Home » उत्तर प्रदेश » Covid-19: no shortage of Remdesivir injection in UP, 2.75 lakh vials will come soon - UP Government
 

Covid-19 : यूपी में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कोई कमी नहीं, जल्द आएंगी 2.75 लाख शीशियां- UP सरकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 April 2021, 8:59 IST
Remdesivir (Catch News)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बातचीत की और covid-19 स्थिति और राज्य सरकार के कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने के प्रयासों के बारे में जानकारी ली. सीएम योगी ने कहा "राज्य सरकार कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है और रोकथाम के लिए आईसीयू बेड की उपलब्धता के साथ-साथ ऑक्सीजन की निरंतर आपूर्ति के टेस्टिंग और ट्रैकिंग के लिए एक रणनीति पर काम किया जा रहा है. 

बढ़ते covid-19 मामलों के बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि यूपी में रेमडेसिविर (Remdesivir) इंजेक्शन की कोई कमी नहीं है. सरकार ने कहा कि एंटी-वायरल दवा की 25,000 शीशियां मंगलवार शाम तक राज्य में पहुंच जाएंगी. अधिकारियों के अनुसार अगले दो से तीन दिनों में राज्य में अतिरिक्त 2.75 लाख शीशियां पहुंचेंगी. रेमडेसिविर का उपयोग covid -19 रोगियों के इलाज के लिए किया जाता है.


राज्य में covid-19 स्थिति का आकलन करने के लिए एक बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जुबिलेंट फार्मा, कैडिला हेल्थकेयर, माइलिन बायोटेक और सिप्ला जैसी कंपनियों को यूपी की मांग के बारे में सूचित किया गया है. कैडिला और सिप्ला प्रत्येक लगभग एक लाख शीशियां देंगे, जबकि जुबिलेंट 50,000 शीशियां और माइलिन 25,000 शीशियां प्रदान करेगा.

सोमवार को उत्तर प्रदेश CMO ने कहा ''रेमडेसिविर जैसी जीवनरक्षक दवाओं की कालाबाजारी बड़ा अपराध है. इसमें संलिप्त व्यक्तियों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट अथवा रासुका के अंतर्गत कठोरतम कार्रवाई की जाए. रेमडेसिविर सहित किसी भी प्रकार की दवाओं की कमी नहीं है. सभी जिलों में इनकी उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाए.'' कहा गया है ''प्रदेश में ऑक्सीजन का उत्पादन करने वाली औद्योगिक इकाइयों से संपर्क करें. प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर हर सप्ताह 3-3 नए ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए जाएंगे. भारत सरकार से 750 मीट्रिक टन ऑक्सीजन आवंटित हो गई है, आवश्यकतानुसार और मांग प्रेषित करें. इसमें देरी न हो.''

सीएम ने पुलिस को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) और गैंगस्टर्स एक्ट के तहत ब्लैक मार्केट में दवा बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है. मेडिकल ऑक्सीजन की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए राज्यभर में 81 MSME इकाइयों की पहचान की गई है और अगले आदेश तक चिकित्सा उपयोग के लिए अस्पतालों में औद्योगिक ऑक्सीजन की आपूर्ति को हटाने का निर्देश दिया गया है. आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि खाद्य सुरक्षा और औषधि प्रशासन विभाग द्वारा स्थापित एक नियंत्रण कक्ष दिन भर सक्रिय रहना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ऑक्सीजन का उपयोग केवल चिकित्सा उद्देश्यों के लिए किया जाए.

सरकार ने कहा कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग से चयनित 106 डॉक्टरों को सोमवार को पोस्टिंग दी गई और covid के इलाज के लिए तैनात किया गया. प्रमुख सचिव (चिकित्सा शिक्षा) आलोक कुमार ने कहा कि महामारी को रोकने के प्रयासों में सरकार संसाधनों की कमी नहीं करेगी. उत्तर प्रदेश 20 करोड़ से अधिक की आबादी वाला देश का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है, जहां पिछले साल सितंबर के आसपास संक्रमण चरम पर था.

सोमवार को राज्य का एक्टिव केस 2 लाख के पार हो गए और महाराष्ट्र के बाद देश का दूसरा सबसे प्रभावित राज्य बन गया. यूपी ने पिछले 24 घंटों में 28,287 नए कोविद मामले दर्ज किए. सोमवार को उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने कहा ''उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों में 28,287 नए कोविड मामले सामने आए हैं. प्रदेश में सक्रिय मामलों की संख्या 2,08,000 है. अब तक 6,61,311 लोग रिकवर हो चुके हैं.''

अमेरिका ने रोका कच्चा माल तो जल्द भारत के वैक्सीन निर्माण में पड़ सकती है बाधा-रिपोर्ट

First published: 20 April 2021, 8:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी