Home » उत्तर प्रदेश » Crorepati Car Thief Arrested with Swift car in Noida
 

'चिंदी चोर' को तिहाड़ जेल में आया ऐसा आइडिया कि बाहर आते ही बन गया करोड़पति

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 May 2018, 15:50 IST

चोरों के बारे में तो आपने बहुत सुना होगा, लेकिन ऐसे चोर के बारे में आजतक नहीं सुना होगा. जिसने चोरी करने की खास टेक्निक जेल में सीखी. जेल से निकलने के बाद इसी तकनीकी से चोरी कर वह करोड़पति बन गया. इस शातिर दिमाग चोर को नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इस चोर का नाम है अरकान.

पुलिस के मुताबिक अरकान संभल का रहने वाला है. अरकान अनपढ़ है, लेकिन चोरी करने के मामले में वो दूसरों से कहीं आगे है. हाल ही में वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया. पुलिस ने उसे एक स्विफ्ट कार सहित गिरफ्तार कर लिया. पुलिस पूछताछ में पता चला कि अरकान सिर्फ नई और महंगी गाड़ियों को ही चुरारा था. ऐसा कर वो पिछले पांच साल में करोड़ों का मालिक बन गया. उसके गैंग में अब 20 से ज्यादा लोग शामिल है.

एसएसपी अमित कुमार के मुताबिक, अरकान 2012 से पहले तक संभल और गाजियाबाद में लूटपाट करता था. उसने संभल में 20 लाख रुपये की एक की डकैती को अंजाम दिया था. साल 2012 में उसे एक मामले में तिहाड़ जेल की हवा खानी पड़ी. जहां उसने सिर्फ 2 मिनट में कार चुराने के टिप्स सीख लिए. यही टिप्स उसे जेल से बाहर आकर करोड़पति बनाने में काम आए.

जेल से छूटने के बाद अरकान ने वाहन चोरी करना शुरु कर दिया. वो इलेक्ट्रॉनिक प्रोग्रामिंग वाले उपकरण की सहायता से सिर्फ 2 मिनट में कार को अनलॉक कर मॉल या सोसायटी की पार्किंग में खड़ी कर देता था. उसके बाद गाड़ियों की पूरी डिटेल मणिपुर में अपने साथी को दे देता था. उसके बाद उसका साथी चेसिस नंबर के आधार पर गाड़ी के फर्जी पेपर तैयार कर उसे फ्लाइट से दिल्ली और नोएडा ले आते थे. उसके बाद सड़क मार्ग से गाड़ी को मणिपुर ले जाते थे.

अरकान का शातिर गैंग नई स्विफ्ट कार को सिर्फ 2 लाख रुपये में और क्रेटा को 4 लाख रुपये में बेच देता था. यही नहीं खरीददार को बताया जाता कि गाड़ी सेकेंड हैंड है और इसके साथ पूरे कागज भी दिए जाते थे. पुलिस जांच में पता चला है कि ये गैंग ऑन डिमांड गाड़ियां चुराकर भी सप्लाई करता था.

ये भी पढ़ें-इस आइलैंड पर 12 साल बाद आया नन्हा मेहमान, जश्न का माहौल

First published: 22 May 2018, 15:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी