Home » उत्तर प्रदेश » Dalit man tell the real story of minister suresh rana go his home with food
 

योगी के मंत्री सुरेश राणा की खुली पोल, दलित ने बताया साथ खाने का सच

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 May 2018, 11:29 IST

योगी सरकार में राज्य मंत्री सुरेश राणा मंगलवार को अलीगढ़ में एक दलित के घर खाना खाने पंहुचे. मगर खाना होटल से मंगाया गया. दलितों के साथ जुड़ा रहने की छवि बनाने में जुटी यूपी सरकार के लिए ये दांव उल्टा पड़ गया. इसे लेकर उस दलित व्यक्ति ने पूरी आप-बीती बताई है जो सुरेश राणा के दलित हितैषीपन की पोल खोल रही है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, जिस अलीगढ़ के लोहागढ़ गांव निवासी 35 वर्षीय रजनीश कुमार के घर सुरेश राणा सोमवार की रात खाना खाने गए थे उसने उस रात की पूरी कहानी बताई है. रजनीश ने बताया कि वह नजदीक के बाजार में एक प्लेट छोला भटूरा खाकर आए और फिर घर आकर सो गए.

 

उन्होंने बताया कि उस रात उनका परिवार एक कार्यक्रम में शामिल होने बाहर गया था और घर पर मैं अकेला था. रात करीब 11 बजे उन्हें पड़ोसियों ने जगाते हुए कहा कि एक मंत्री तुम्हारे यहां कुछ खाना चाहते हैं. इसके बाद कई लोग मंत्री के साथ घर के भीतर आए और कैटरर्स का खाना और मिनरल वाटर की बोतलें लाई गईं.

इसके बाद सबने खाना खाया. रजनीश ने बताया कि उसने मंत्री जी के साथ खाना नहीं खाया. उसे ये भी नहीं पता कि खाना किसने लाया. अरविंद ने कहा कि मैं एक पल के लिए कुछ समझ नहीं पाया कि क्या हो रहा है. 

अरविंद ने बताया कि अगर उन्हें पहले से मंत्री जी के आने की जानकारी होती तो वह खाने का इंतजाम कर देता. बताया कि मंत्री जी सिर्फ खाना खाए और चले गए. उन्हें यह भी जानने में कोई दिलचस्पी नहीं थी कि इस घर में रहता कौन है या घर का मालिक कौन है.

अरविंंद ने बताया कि हम भले ही विलासितापूर्ण जीवन नहीं जीते लेकिन मेरे यहां चार पहिया और दो पहिया वाहन है और मंत्री जी के खाने का इंतजाम कर सकता था. 

पढ़ें- योगी के मंत्री ने दलित के घर जाकर खाया होटल से ऑर्डर किया हुआ खाना

गौरतलब है कि पिछले दिनों योगी आदित्यनाथ ने भी प्रदेश के प्रतापगढ़ इलाके में दलित परिवार के घर जाकर खाना खाया था. योगी के दलित के घर खाना खाने को लेकर भी विवाद हुआ था. ऐसा कहा जा रहा था कि योगी के लिए रोटी उनकी ही मंत्री स्वाति सिंह ने ही बनाई थी जो कि ठाकुर जाति से आती हैं. इसको लेकर बसपा ने भी योगी पर निशाना साधा था.

First published: 3 May 2018, 11:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी