Home » उत्तर प्रदेश » Farrukhabad: Police killed accused Subhash Batham and his wife dies after being thrashed by mob
 

फर्रुखाबाद: पुलिस ने आरोपी सुभाष को मार गिराया, भीड़ ने आरोपी की पत्नी को पीट-पीट के उतारा मौत घाट

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 January 2020, 10:24 IST

Farrukhabad Children Rescued from home: फर्रुखाबाद में 23 बच्चों (23 Children) को घर के अंदर बंधक (Pledge) बनाने वाले शख्स को पुलिस (Police) ने मार गिराया. उसके बाद भीड़ (Mob) ने आरोप की पत्नी (Wife) की पीट-पीटकर हत्या (Murder) कर दी. बता दें कि गुरुवार (Tursday) को फर्रुखाबाद (Farrukhabad) में चोरी के मामले में फंसे एक शख्स ने गांव के 23 बच्चों को अपने घर में बंधक बना लिया. जानकारी के मुताबिक, कथरिया गांव (Katharia Village) में सुभाष बाथम (Subhash Batham) नाम के एक शख्स ने अपनी बेटी का बर्थडे (Birthday) मनाने के बहाने गांव के 23 बच्चों को अपने घर बुलाया था.

उसके बाद उसने सभी बच्चों को घर में बंद कैद कर लिया. बच्चों को बंधक बनाने की खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई. उसके बाद स्वाट टीम बच्चों को मुक्त कराने के लिए मौके पर पहुंची तो आरोपी सुभाष ने टीम पर गोलियां चलानी शुरु कर दी. उसके बाद आरोपी ने दो सिपाही और मुखबिरी करने वाले ग्रामीण को सामने बुलाने की मांग की. उसके बाद कोतवाल भी मौके पर पहुंचे तो आरोपी ने उनपर भी फायरिंग कर दी और हथगोला फेंका दिया. कोतवाल और दीवान हथगोले को छर्रों से घायल हो गए. साथ ही उसने ग्रामीणों पर भी फायरिंग कर दी. जिसमें ग्रामीण के पैर में गोली लग गई.

उसके बाद देर रात पुलिस घर में घुस गई और आरोपी को मार गिराया और सभी बच्चों को सुरक्षित निकाल लिया. बच्चों को बचाने का ये ऑपरेशन करीत 11 घंटे तक चला. जिसमें पुलिस को कड़ी मेहनत करनी पड़ी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बच्चों को बचाने वाली पुलिस टीम को 10 लाख रुपये बतौर इनाम देने की घोषणा की है. बताया जा रहा है कि उसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपी सुभाष की पत्नी को पीट-पीटकर मार डाला.

जानकारी के मुताबिक, जब सुभाष बाधम ने बच्चों को घर के अंदर बंधक बना लिया तो उसने स्थानीय से बात करने की शर्त रखी, लेकिन जब विधायक मौके पर पहुंचे तो उसे विधायक से बात नहीं की. पुलिस का कहना है कि सुभाष ने काफी मात्रा में गोला बारूद इकट्ठा कर रखा था और वो लंबी लड़ाई लड़ना चाहता था. वो बार-बार धमाके की धमकी भी दे रहा था. पुलिस के मुताबिक, उसके एक रिश्तेदार को भी बातचीत के लिये घर के करीब भेजा गया लेकिन उसने रिश्तेदार पर भी गोली चला दी जिससे वह घायल हो गया.

जानकारी के मुताबिक, 40 साल के सुभाष बाथम पर चार मुकदमे चल रहे थे. जिसमें एक मुकदमा धारा 302 का भी था. सुभाष का कहना था कि सत्ताधारी पार्टी के इशारे पर उसका और उसके परिवार का उत्पीड़न किया गया है. वह लगातार मांग कर रहा था कि उसके खिलाफ चल रहे सभी केसों को हटा लिया जाए. इसी के चलते उसने 23 बच्चों को घर के अंदर बंदी बना लिया था.

योगी के मंत्री का अजीबोगरीब बयान, बोले- पढ़े-लिखे लोग समाज का माहौल बिगाड़ते हैं

योगी सरकार के मंत्री सुरेश राणा के गनर की गोली मारकर हत्या, परिवार में मचा कोहराम

बेटी और भतीजे के आपत्तिजनक हालत में देख पिता ने उठाया ये खौफनाक कदम

First published: 31 January 2020, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी