Home » उत्तर प्रदेश » Gayatri Prajapati grant bail in POCSO court Lucknow in rape csae
 

गायत्री प्रजापति को POCSO केस में मिली ज़मानत

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 April 2017, 14:36 IST

लखनऊ की पॉक्सो कोर्ट ने गैंगरेप के एक मामले में अखिलेश सरकार के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को ज़मानत दे दी है. गायत्री प्रजापति पर एक महिला ने गैंगरेप के साथ ही अपनी बेटी से छेड़छाड़ का भी आरोप लगाया था. रेप के मामले में फरार चल रहे यूपी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को यूपी पुलिस ने लखनऊ से  गिरफ्तार किया था. 27 फरवरी को अमेठी में मतदान के बाद से गायत्री प्रजापति फरार चल रहे थे.  

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 18 फरवरी को उनके खिलाफ लखनऊ के गौतम पल्ली थाने में बलात्कार का केस दर्ज हुआ था. गिरफ्तारी से पहले गायत्री प्रजापति के दिल्ली और नोएडा के साथ ही लखनऊ में छिपे होने की बात सामने आई थी. यूपी पुलिस के मुताबिक गायत्री कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में थे, लेकिन यूपी पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने उन्हें पहले ही दबोच लिया.

अखिलेश सरकार में गायत्री प्रजापति परिवहन मंत्री थे. पिछले साल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खनन आवंटन की सीबीआई जांच का आदेश दिया था. इसके चंद महीनों बाद ही अखिलेश ने गायत्री को खनन मंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया था. हालांकि बाद में गायत्री प्रजापति को अखिलेश ने फिर से मंत्री बना दिया. इसके पीछे मुलायम सिंह यादव के दबाव को वजह माना जा रहा था.

परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति समेत 7 लोगों के खिलाफ लखनऊ के थाना गौतमपल्ली थाने में रेप, गैंगरेप और नाबालिग के साथ रेप के प्रयास का मामला दर्ज है. मामले की विवेचक सीओ आलमबाग अमिता सिंह द्वारा पीड़िता का 164 सीआरपीसी के तहत न्यायालय में कलमबद्ध बयान दर्ज हो चुका है. पीड़िता की बेटी के बयान के लिए विवेचक की टीम दिल्ली गई थी जहां उसका बयान दर्ज किया गया.

204 में चित्रकूट जिले की एक महिला ने गायत्री प्रजापति समेत उनके गुर्गों पर गैंगरेप का आरोप लगाया था. इसके साथ ही महिला ने अपनी बेटी के भी यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी. मामले की पहले सीबीसीआईडी जांच चल रही थी.

ये है मामला

गायत्री प्रजापति समेत 7 लोगों के खिलाफ 18 फरवरी को गौतमपल्ली थाने में केस दर्ज हुआ. गायत्री प्रसाद प्रजापति के अलावा अशोक तिवारी,आशीष शुक्ला, चंद्रपाल, पिंटू सिंह, विकास वर्मा और रूपेश के खिलाफ थाना गौतमपल्ली में अपराध संख्या 29/11 आईपीसी की धारा 376 डी महिला के साथ गैंगरेप, 376/511 महिला की बेटी के साथ रेप का प्रयास, 504,506 और 3/4 पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज है.

First published: 25 April 2017, 14:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी