Home » उत्तर प्रदेश » Gorakhpur Oxygen Tragedy: docter kafeel released form jail on bail speaks about the incident
 

गोरखपुर हादसा: बेटी के पहले बर्थडे के दिन डॉ. कफील भेजे गए थे जेल, अब नहीं पहचानती बेटी, कुसूरवार कौन?

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 May 2018, 11:42 IST

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज ऑक्सीजन काण्ड में करीब 8 महीने जेल में काटने के बाद डॉक्टर कफील ने अपनी आपबीती सुनाई. जमानत पर रिहा हुए डॉक्टर क़फील ने एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में जेल में गुजरे अपने दिनों  के बारे में बताया. डॉक्‍टर कफील खान को करीब 8 महीने तक तमाम अपराधियों से भरी एक गंदी सी बैरक में जमीन पर सोना पड़ा.

डॉक्टर कफील ने बताया, 'मुझे जिस बैरक में रखा गया था उसमें 60 लोगों के रहने की क्षमता थी, लेकिन 160 लोग उसमें रहते थे. मैं रात में पानी इसलिए नहीं पीता था क्‍योंकि वॉशरूम जाने के लिए जमीन पर सो रहे 160 लोगों को लांघ कर जाना पड़ता था.'

ये भी पढ़ें- कर्नाटक विधानसभा चुनाव: देश में लौटे अच्छे दिन, जनता को मिली बड़ी राहत

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज हादसे के बारे में डॉक्‍टर कफील बताते हैं कि 10 अगस्‍त को वो सोने जा रहे थे तभी उनके सीनियर रेसिडेंट का व्‍हाट्सऐप पर मैसेज आया कि लिक्विड ऑक्सीजन खत्‍म हो गई है. वो फौरन अस्‍पताल पहुंचे और 24 घंटों में उन्‍होंने अपने जानपहचान का इस्‍तेमाल कर करीब 250 सिलेंडर का इंतजाम कर दिया.

मीडिया को इसकी जानकारी मिली तो उसने उनकी तारीफ में आलेख लिखे. सीएम योगी को लगा कि वो अपनी पब्लिसिटी कर रहे हैं और उन्‍होंने उनके खिलाफ कार्रवाई कर दी. डॉ. कफील कहते हैं कि, 'ऑक्‍सीजन सप्‍लाई करने वाली कंपनी ने अफसरों को 13 खत लिखे कि उसका 67 लाख रुपया उधार हो गया है. अगर उसका पेमेंट नहीं होगा तो वो ऑक्‍सीजन नहीं दे पाएगा, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई उसने ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई बंद कर दी. सरकार ने मेडिकल कॉलेज के डॉक्‍टर पर कार्रवाई कर दी लेकिन जिन बड़े लोगों ने ऑक्‍सीजन का फंड रिलीज नहीं किया उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई.'

ये भी पढ़ें- महात्मा बुद्ध को लेकर बिप्लब देब का नया ज्ञान, कहा- दुनियाभर में पैदल घूमे थे बुद्ध

इंटरव्यू के दौरान डॉक्टर कफील ने बताया कि जिस दिन उन्हें जेल भेजा गया, उनकी बेटी का पहला बर्थडे था. अब जब 8 महीने बाद जेल से आए हैं तो उनकी बेटी उनको पहचानती नहीं और उनकी गोद से भागती है.

कफील कहते हैं, 'मेरे जेल जाने से मेरा पूरा परिवार मुसीबत में पड़ गया. मेरे भाई अपना कारोबार छोड़ कर कोर्ट कचहरी के चक्‍कर में पड़ गए. मेरी मां बीमार पड़ गईं. मेरी बीवी ने मेरे रिहा होने की उम्‍मीद छोड़ दी. मेडिकल कॉलेज से मेरा कोई दोस्‍त डॉक्‍टर सरकार के डर से मुझसे मिलने नहीं आया. लोग मेरे घरवालों से मिलने से बचने लगे. उन्‍हें लगता था कि अगर वो हमारा साथ देंगे तो योगी नाराज हो जाएंगे.'

First published: 2 May 2018, 11:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी