Home » उत्तर प्रदेश » Hathras Case: Family members of Hathras alleged gang-rape victim leave for Lucknow
 

Hathras Case: कड़ी सुरक्षा में लखनऊ के लिए रवाना हुआ पीड़ित परिवार, आज होगी कोर्ट में सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 October 2020, 6:55 IST

Hathras Case: उत्तर प्रदेश (UP) के हाथरस (Hathras) में दलित लड़की के साथ हुए कथित गैंगरेप (Gang Rape) मामले की आज इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) की लखनऊ बेंच (Lucknow Bench) में सुनवाई होगी. इसके लिए पीड़िता का परिवार कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट (Court) में पेश होगा. कोर्ट ने सरकार और पुलिस के उन तमाम बड़े अफसरों को भी तलब किया है जिनपर केस में लापरवाही बरतने का आरोप है. हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच (Allahabad High Court's Lucknow Bench) में होने वाली सुनवाई में शामिल होने के लिए पीड़ित परिवार (Victim Family) हाथरस से रवाना हो गय है.

जिसके लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. पीड़ित परिवार को लेने के लिए पुलिस की टीम बुलगढ़ी गांव पहुंच थी. इससे पहले परिवार को रविवार रात में ले जाने की तैयारी थी, लेकिन परिवार ने रात में जाने से इनकार कर दिया. उसके बाद पीड़ित परिवार कड़ी सुरक्षा के बीच सोमवार तड़के सुबह लखनऊ के लिए रवाना हुआ. पीड़ित परिवार ने पुलिस की ओर से हुई देरी के बाद सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए रात में लखनऊ जाने से इनकार कर दिया था. सोमवार को पीड़ित परिवार से पांच लोग सीओ और मजिस्ट्रेट की निगरानी में कोर्ट के सामने पेश होंगे और अपना बयान दर्ज कराएंगे.


खुशखबरी: दोपहर 2 बजे तक 'बंदर की तस्वीर' का कैप्शन बताओ, आनंद महिंद्रा देंगे नई कार मुफ्त

पीड़िता के परिवार के जो सदस्य लखनऊ जा रहे हैं उनमें पीड़िता के दोनों भाई, पिता, माता और भाभी शामिल हैं. बता दें कि इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने 1 अक्टूबर को घटना पर स्वत: संज्ञान लिया था. हाई कोर्ट के दखल के बाद योगी सरकार हरकत में आई और परिवार को सुरक्षा का पहरा दिया गया. परिवार की सुरक्षा में करीब 60 पुलिसवालों की तैनाती की गई और घर के आसपास सीसीटीवी कैमरे लगा दिए गए हैं. इसके साथ ही घर आने-जाने वाले हर शख्स पर कड़ी नजर रखी जा रही है.

उत्तर प्रदेश: अब गोण्डा में पुजारी को मारी गोली, गंभीर हालत में लखनऊ किया गया रेफर

हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने सुनवाई के दौरान अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह, डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार के अलावा हाथरस के डीएम प्रवीण कुमार और एसपी रहे विक्रांत वीर को तलब किया है. ऐसा माना जा रहा है कि हाथरस कांड में जिस तरह से पुलिसिया कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं, उससे साफ है कि हाथरस पुलिस और योगी सरकार को अदालत में कई तरह के कड़े सवालों का सामना करना पड़ेगा.

Coronavirus: मल्टीनेशनल कंपनी में करता था जॉब, लॉकडाउन में गई नौकरी तो पत्नी के साथ लगाया ठेला

Video: कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने महिला नेता से की जमकर मारपीट, रेप विक्टिम को टिकट का किया था विरोध

वहीं दूसरी ओर इस पूरे मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने भी केस दर्ज कर लिया है. साथ ही सीबीआई ने इस मामले में अपनी जांच पड़ताल शुरू कर दी है. सीबीआई ने उत्तर प्रदेश सरकार के अनुरोध पर मामला दर्ज किया है. जांच एजेंसी ने इस सिलसिले में एक टीम गठित की है. सीबीआई में हाथरस मामले की जांच ग़ाज़ियाबाद सीबीआई यूनिट में तैनात डीएसपी सीमा पाहुजा करेंगी. सीमा पाहुजा एक तेज तर्रार महिला अफसर हैं जो हिमाचल प्रदेश के गुड़िया मामले की जांच भी कर चुकी हैं. उन्हें बेहतरीन जांच के लिए पुलिस पदक समेत कई सम्मान मिल चुके हैं.

Video: गुजरात में विशेष तरीके से हो रहा कोरोना मरीजों का इलाज, संक्रमितों को सुनाया जा रहा संगीत

बता दें कि हाथरस कांड की जांच अभी तक एसआईटी कर रही थी. घटना वाले दिन यानी 14 सितंबर का सच जानने के लिए एसआईटी ने जांच शुरु की तो उन्होंने 40 लोगों को अपने रडार पर लिया. उसके बाद इन सभी से पूछताछ की गई. इन लोगों में वो लोग शामिल हैं जो घटना वाले दिन आसपास के खेतों में काम कर रहे थे.

Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्री ने आगामी त्योहारों को लेकर किया सचेत, कहा- भगवान नहीं कहते जश्न मनाना है

First published: 12 October 2020, 6:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी