Home » उत्तर प्रदेश » Kairana bypoll: BJP in problem AAP party and independent candidate give support to RLD candidate
 

यूपी: विपक्षी चक्रव्यूह में फंसी BJP, गोरखपुर-फूलपुर के बाद यह लोकसभा सीट भी जाएगी हाथ से!

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 May 2018, 14:45 IST

बीजेपी सांसद हुकूम सिंह के निधन के बाद खाली हुई कैराना लोकसभा की सीट बीजेपी के लिए साख का सवाल बनी हुई है. यहां पर 28 मई को उपचुनाव होने हैं. लेकिन कैराना के लिए जिस तरह सारी विपक्षी पार्टियों का याराना सामने आया है वह बीजेपी को परेशान करने वाला है. दरअसल अब आम आदमी पार्टी ने भी महागठबंधन को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है. इससे पहले कांग्रेस भी यह ऐलान कर चुकी है.

28 मई को होने वाले कैराना उपचुनाव में रालोद की प्रत्याशी तबस्सुम बेगम मैदान में हैं. वैसे तो वह समाजवादी पार्टी की नेता हैं लेकिन वह रालोद के निशान पर चुनाव लड़ेंगी. सपा-रालोद के इस प्रत्याशी को बसपा ने अपना समर्थन दिया है. वहीं कांग्रेस ने भी समर्थन का ऐलान किया है. अब आप के समर्थन के बाद रालोद प्रत्याशी और मजबूत हो गई हैं. अब बीजेपी का मुकाबला किसी एक पार्टी से नहीं है, बल्कि परोक्ष रूप से पांच-पांच पार्टियों से है. यानी अकेली बीजेपी अब पांच पार्टियों से लड़ेगी.

 

बुधवार (23 मई) को आम आदमी पार्टी ने लोकदल-सपा प्रत्याशी के समर्थन का ऐलान किया. आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि उनकी पार्टी ने नफरत की राजनीति को हवा देने वाली सांप्रदायिक शक्तियों को परास्त करने के लिए यह फैसला लिया है. संजय सिंह ने बताया कि उन्होंने पार्टी के स्थानीय काडर से कहा है कि वे कैराना उपचुनाव में सपा-रालोद-बसपा गठबंधन के समर्थित प्रत्याशी के पक्ष में खुलकर काम करें.

इसके अलावा निर्दलीय प्रत्याशी कंवर हसन ने रालोद को समर्थन दे दिया है. गौरतलब है कि रालोद प्रत्याशी तबस्सुम के खिलाफ उनके देवर कंवर हसन निर्दलीय चुनाव लड़ रहे थे. जिसे लेकर कांग्रेस नेता इमरान मसूद कई दिनों से कंवर हसन को समर्थन के लिए मनाने में लगे थे. आज उन्होंने अपनी भाभी को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है.

वहीं, कांग्रेस पहले ही इस बात की पुष्टि कर चुकी है कि इस उपचुनाव में वह महागठबंधन के उम्मीदवार को ही अपना समर्थन देगी. दरअसल, कांग्रेस साल 2019 लोकसभा के चुनाव को ध्यान में रखकर विपक्ष के महागठबंधन की उम्मीदों को बढ़ाना चाहती है, ताकि कैराना में बीजेपी को हराया जा सके. कर्नाटक में सरकार बनाने में नाकाम रहने वाली भारतीय जनता पार्टी कैराना में विपक्षी चक्रव्यूह का सामना किस तरह से करती है, यह देखना दिलचस्प होगा.

पढ़ें- CM योगी का आरोप- शिवसेना ने पीठ में घोंपा खंजर तो उद्धव ने कहा- चप्पल से मारेगी जनता

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने कैराना से स्वर्गीय सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को प्रत्याशी बनाया है. जबकि रालोद ने समाजवादी पार्टी से कैराना की पूर्व सांसद तबस्सुम बेगम को पार्टी में शामिल कर उन्हें कैराना से अपना प्रत्याशी बनाया है.

First published: 24 May 2018, 14:45 IST
 
अगली कहानी