Home » उत्तर प्रदेश » Kanwar Yatra: 70 Fearful families leave village as UP police crack down to help kanwarias
 

कांवड़ यात्रा: यूपी पुलिस के खौफ से गांव छोड़कर भागे 70 मुस्लिम परिवार

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2018, 12:40 IST

पूरे देश में इन दिनों कांवड़ यात्रा की धूम है. लेकिन कई जगहों से कांवड़ियों द्वारा मारपीट की खबर सामने आ रही है. उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में एक गांव में भी कांवड़ यात्रा का खौफ पैदा हो गया है. गांव वालों को कांवड़ यात्रा का इतना खौफ हो गया है कि वहां के लोग गांव छोड़-छोड़कर चले गए हैं. 

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, गांव में रहने वाले लोगों को पुलिस द्वारा लाल कार्ड जारी किया गया है. यूपी पुलिस के अनुसार, यह लाल कार्ड उस शख्स को जारी किया गया है जो कांवड़ यात्रा के दौरान इलाके में कानून-व्यवस्था की समस्या पैदा कर सकता है, इसलिए उसे हिदायत दी जाती है कि वो ऐसा ना करें, अन्यथा कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

पढ़ें- भारत बंद: गृह मंत्रालय ने राज्यों को किया अलर्ट, आरक्षण का कर रहे हैं विरोध

खबर के अनुसार, हफ्ते भर के भीतर 250 से ज्यादा मुस्लिम-हिन्दू लोगों को यह कार्ड जारी किया गया है. लाल कार्ड जारी करने के अलावा पुलिस ने 441 ऐसे स्थानीय लोगों की पहचान की है जो पुलिस की नजर में समस्या पैदा कर सकते हैं. पुलिस ने ऐसे लोगों से 5 लाख रुपये के बॉन्ड पर हस्ताक्षर करवाए हैं.

यही कार्ड गांव के लोगों के लिए मुसीबत बन गया है. पुलिस के इस कदम से खेलम गांव में दहशत का माहौल पैदा हो गया है और 70 मुस्लिम परिवारों ने गांव छोड़ दिया है. दरअसल, पिछले साल कांवड़ यात्रा के दौरान इस गांव में संघर्ष हो गया था. जब कांवड़ियों का जत्था मुस्लिम बहुल इलाके से गुजर रहा था तभी विवाद हुआ था.

पढ़ें- मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: मंत्री मंजू वर्मा के इस्तीफे के बाद क्या CM नीतीश भी देंगे इस्तीफा ?

इस घटना में दोनों समुदायों से दर्जनों लोग घायल हो गये थे वहीं 15 पुलिस वालों को भी चोटें आई थीं. इस मामले में दो एफआईआर दर्ज किये गये थे, एक में 29 मुसलमानों का नाम था, जबकि दूसरे में 14 हिन्दुओं का. इसी वजह से मुस्लिम परिवार घबराये हुए हैं.

5000 की आबादी वाले इस गांव की 70 फीसदी आबादी मुसलमानों की है. सड़क के दोनों किनारे मुस्लिम रहते हैं, यहीं से कांवरिया लगभग 8 किलोमीटर रास्ता तय करते हैं और गुलेरिया गांव के एक मंदिर में पहुंचते हैं. मंगलवार को इस गांव में सन्नाटा पसरा था. दुकानें बंद थी, घरों पर ताले लटके हुए थे. सड़क पर इक्का दुक्का लोग ही नजर आ रहे थे.

First published: 9 August 2018, 12:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी