Home » उत्तर प्रदेश » Kasganj violence starts again after impose 144 over communal clash on an unauthorised trianga rally to mark Republic Day in up
 

यूपी: कासगंज में फिर भड़की हिंसा, बिना परमिशन तिरंगा यात्रा से शुरू हुआ बवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 January 2018, 13:44 IST

उत्तर प्रदेश के कासगंज में एक बार फिर से हिंसा भड़कने की खबर है. पुलिस अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है. शुक्रवार को गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा के बाद हालात पर काबू पा लिया गया था पर स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई थी. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक कुछ दुकानों और संपति को उपद्रवियों ने नुकसान पहुंचाया है.

पुलिस इस समय भारी संख्या में मौके पर मौजूद है. दोबारा बवाल मचने के बाद PAC की 5 कंपनियों और RAF की 1 कंपनी को तैनात कर दिया गया है. हिंसा का जायजा लेने और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए ADG ज़ोन, IG और DIG (रेंज) मौके पर पहुंच चुके हैं.

दरअसल शुक्रवार को गणतंत्र दिवस के दिन बिना परमिशन आयोजित तिरंगा यात्रा को लेकर दो गुटों में हिंसा हुई. अधिकारियों के मुताबिक इस हिंसा में चंदन गुप्ता नाम के व्यक्ति की फायरिंग में गोली लगने से मौत हो गई. वहीं दूसरी तरफ नौशाद को पैर में गोली लगने के बाद पास के अलीगढ़ अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पुलिस के मुताबिक फायरिंग से पहले दोनों गुटों में जमकर पत्थरबाजी हुई. कासंगज के एडनिशल डिस्ट्रिक मजिस्ट्रेट ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि ये रैली बिना परमिशन के निकाली गई. कासगंज के स्टेशन हाउस ऑफिसर रिपुदमन सिंह ने कहा, " बधु नगर में तिरंगा यात्रा के दौरान मोटर साइकिल सवार लोगों द्वारा लगाये जा रहे कुछ स्लोगन पर लोगों ने विरोध जताय. जो कि बिलराम गेट के पास से शुरु हुई थी.

पुलिस के मुताबिक वहीं एक गुट के युवक को दूसरी तरफ के युवकों ने थप्पड़ मारा. इसके बाद मामला और बढ़ गया. इस हिंसा के बाद प्रशासन ने मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया था. मुख्य सचिव अरविंद कुमार ने बताया था कि अब स्थिति सामान्य है.

कासगंज के भाजपा जिलाध्यक्ष पुरेंद्र प्रताप सिंह सोलंकी ने इस हिंसा में भाजपा का हाथ होने से साफ इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि इस हिंसा में जान गंवाने वाले चंदन गुप्ता का पार्टी और उसके संगठने से कोई संबंध नहीं है. उन्होंने कहा कि तिरंगा यात्रा स्थानीय लोगों ने निकाली थी. 

कासंगज पुलिस स्टोशन के सीनियर सब इंस्पेक्टर मोहर सिंग तोमर ने बताया कि कुछ लोगों को थाने में पूछताछ के लिए हिरासत में रखा गया है. लेकिन अभी तक पीड़ित युवक के परिवार की तरफ से कोई एफआईआर दर्ज नहीं करवाई गई है.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्वीटर अकाउंट से शांति और एकजुटता की अपील की है. इसके साथ ही उन्होंने उपद्रवियों के खिलाफ सख्त एक्शन लेने के निर्देश प्रशासन को दिये हैं.

ये भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस के मौके पर दंगों की आग में जला यूपी, तिरंगा यात्रा में शामिल शख्स की मौत

First published: 27 January 2018, 13:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी