Home » उत्तर प्रदेश » Letter Bomb of SP leader to Akhilesh Yadav: Even Ravana's arrogance defeated
 

लेटर बम: 'अखिलेश जी घमंड तो रावण का भी नहीं रहा, रामगोपाल शकुनि हैं'

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 April 2017, 19:34 IST
(कैच)

ऐसा लगता है कि यूपी विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी का कुनबा एक बार फिर बिखराव की ओर दिख रहा है. पहले मुलायम ने अखिलेश पर सीधा निशाना साधते हुए अपमान करने का आरोप लगाया, फिर शिवपाल यादव ने कहा कि जो बच्चे पिता की बात नहीं मानते वे कभी तरक्की नहीं कर पाते. अब समाजवादी पार्टी के एक नेता ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को चिट्ठी लिखकर हमला बोला है. 

सपा नेता ने इस लेटर बम में अखिलेश यादव को कठघरे में खड़ा किया है. सपा के पूर्व सदस्य प्रदेश कार्यकारिणी सुधीर सिंह ने खत में लिखा, "घमंड तो रावण का भी नहीं रहा तो हम आप क्या चीज हैं? हार से आपने कोई सबक नहीं लिया है. आप अब भी कुछ लोगों के चंगुल में फंसे हुए हैं." 

'चाटुकारों की बूथवार कीजिए समीक्षा'

खत में सपा नेता ने आगे लिखा, "आप हार की मंडलवार समीक्षा कर रहे हैं, लेकिन आपको 5 सालों से आपकी सरकार चलाने वाले 9 रत्नों के गुट की बूथवार समीक्षा करनी चाहिए. जिनके पास साइकिल नहीं थी, वे अब बीएमडब्ल्यू के काफिले में चल रहे हैं."

सुधीर सिंह ने लिखा, "आपके 9 रत्नों ने आपको यह समझा दिया कि आपकी लहर 2014 की मोदी लहर से भी ज्यादा चल रही है. आप इन चाटुकारों द्वारा बनाई गई काल्पनिक लहर में गोते लगाकर दोबारा सीएम बनने के सपने देखते रहे. इस घमंड में चूर होकर आपने संघर्ष के बलबूते पार्टी को खड़े करने वाले शिवपाल यादव को दो-दो बार बेइज्जत करके बाहर निकाला." 

'एक जनवरी का सम्मेलन पतन का कारण'

सपा नेता यही नहीं थमे. आगे उन्होंने लिखा, "जिस मुलायम सिंह ने अपनी जीवनभर की कमाई आपको सौंप दी, शकुनि रामगोपाल यादव के कहने पर उन्हें अध्यक्ष पद से हटा दिया गया. एक जनवरी को जनेश्वर मिश्र पार्क में हुआ सम्मेलन आपके पतन का कारण था."

सुधीर सिंह ने खत में लिखा, "उस दिन ज्यादातर समाजवादियों के घर चूल्हे नहीं जले. आपके सामने चाचा और आपके पिता को गालियां पड़ती रहीं और आप मुस्कराते रहे. आप घमंड में इतने चूर थे कि चार-चार बार विधायक रहे लोगों का टिकट काटकर कल के लड़कों को टिकट दे दिया." 

गौरतलब है कि यूपी विधानसभा चुनाव के नतीजे 11 मार्च को आए थे. सपा ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा था. सपा को 47 जबकि कांग्रेस को सात सीटोंं पर जीत हासिल हुई. वहीं पिछले चुनाव में सपा ने अकेले बहुमत हासिल करते हुए 403 में से 224 सीटें जीती थीं. इस बार बीजेपी ने अपने सहयोगियों के साथ 325 सीटों पर कब्जा करते हुए तीन चौथाई बहुमत हासिल किया है.

First published: 3 April 2017, 19:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी