Home » उत्तर प्रदेश » Lucknow: ISIS Khorasan module terrorist gunned down in Thakurganj operation that lasted for nearly 10 hrs
 

लखनऊ: एटीएस का ऑपरेशन ख़त्म, सैफ़ुल्लाह के परिवार ने शव लेने से इनकार किया

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2017, 7:57 IST
(एएनआई)

लखनऊ में 11 घंटे से ज्यादा वक्त तक चला यूपी पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) का ऑपरेशन खत्म हो गया है. इस दौरान आईएसआईएस के संदिग्ध सदस्य सैफुल्ला को मार गिराया गया है.

मंगलवार शाम को लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके की हाजी कॉलोनी में यह मुठभेड़ शुरू हुई थी. मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक ट्रेन धमाके के बाद मिले इनपुट के आधार पर यह कार्रवाई की गई. यूपी के डीजीपी जावीद अहमद ने मीडिया से इसकी पुष्टि की है.

सैफुल्ला के पिता सरताज ने उसका शव लेने से इनकार कर दिया है. उन्होंंने कहा, 'जो अपने देश का नहीं हो सका वो हमारा क्या होगा.'

ISIS के खुरासान मॉड्यूल पर शक

एटीएस के आईजी असीम अरुण के मुताबिक संदिग्ध आतंकी को जिंदा पकड़ने की कोशिश की गई, लेकिन उसने सरेंडर करने से इनकार करते हुए पुलिस पर कई राउंड फायरिंग की. यूपी एटीएस के मुताबिक संदिग्ध सैफुल्ला आईएसआईएस के खुरासान मॉड्यूल का सदस्य था.

पहले एटीएस को शक था कि मकान में दो संदिग्ध आतंकी छिपे हैं, लेकिन बाद में एक ही संदिग्ध के होने की तस्दीक हुई. पुलिस ने घर में छानबीन के दौरान ISIS से जुड़े दस्तावेज और भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है. 

एएनआई

उज्जैन ट्रेन ब्लास्ट से जुड़े तार

यूपी पुलिस को इनपुट मिला था कि एक संदिग्ध आतंकी लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में हाजी कॉलोनी के एक घर में मौजूद है. जिसके तार भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन से जुड़े होने का शक जताया गया. इस धमाके में नौ लोग जख्मी हो गए थे. 

एटीएस संदिग्ध को जिंदा पकड़ने के लिए एहतियात बरत रही थी. उसे बेहोश करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए. दरअसल मंगलवार को भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन (59320) उज्जैन की जा रही थी. कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास सुबह तकरीबन 10 बजे ट्रेन में धमाका हुआ, जिसके बाद ट्रेन की एक बोगी की छत में छेद हो गया.

एएनआई

कानपुर के पास से 3 गिरफ्तार

एमपी पुलिस ने इस मामले में तफ्तीश के दौरान तीन संदिग्धों को एमपी के पिपरिया से एक बस से गिरफ्तार कर लिया. जबकि दो संदिग्धों के यूपी में होने की खबर आई. इसके बाद यूपी एटीएस ने इटावा, कानपुर और उन्नाव से 3 अन्य संदिग्धों फैज़ान, इमरान और फैज़ल को गिरफ्तार किया.

एटीएस के मुताबिक सभी संदिग्ध आईएसआईएस खुरासान के लखनऊ-कानपुर मॉड्यूल के मेंबर हैं. यूपी के डीजीपी जावीद अहमद ने बताया, "कानपुर और आस-पास के इलाकों से तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है." 

एटीएस के आईजी असीम अरुण का कहना है, "8 पिस्टल, गोला-बारूद, सोना, कैश, पासपोर्ट और सिम कार्ड बरामद किया गया है. दो और संदिग्धों तक पहुंचने की कोशिश में पुलिस जुटी है."

First published: 8 March 2017, 9:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी