Home » उत्तर प्रदेश » Mathura Jewellers murder case: Six people including main accused Ranga and Cheema arrested after encounter with police
 

मथुरा हत्याकांड: मुठभेड़ में मुख्य आरोपी रंगा समेत 6 बदमाश गिरफ़्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 May 2017, 13:24 IST
मथुरा में 15 मई रात को हुई वारदात की सीसीटीवी फुटेज

मथुरा में सोमवार रात को दो ज्वैलर्स की हत्या और लूट के मामले में यूपी पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. शनिवार सुबह बदमाशों से मुठभेड़ के दौरान यूपी एटीएस और मथुरा पुलिस ने इस मामले में मुख्य अभियुक्त रंगा और चीना समेत छह लोगों को गिरफ़्तार किया है.

होलीगेट इलाके में सोमवार को बदमाशों ने दो ज्वैलर्स की गोली मारकर हत्या करने के बाद 4 करोड़ की ज्वैलरी लूट ली थी. इस मामले में कार्रवाई के लिए पुलिस की पांच टीमें बनाई गई थीं. बताया जा रहा है कि तीन दिन से आरोपी पुलिस के राडार पर थे. इस मामले में आरोपी रंगा और नीरज पर पांच-पांच हजार रुपये का इनाम था. 

राकेश उर्फ रंगा वारदात का मास्टरमाइंड

मेरठ के एसएसपी विपिन कुमार मिश्रा का कहना है, "शनिवार सुबह 5 बजे बदमाशों के साथ पुलिस का एनकाउंटर हुआ, जो करीब ढाई घंटे तक चला. इस दौरान पुलिस ने राकेश उर्फ रंगा, चीना, आदित्य, छोटू और नीरज समेत 6 बदमाशों को गिरफ्तार किया है. मुठभेड़ में 7 पुलिसकर्मी जख्मी हो गए. क्रॉस फायरिंग में 3 बदमाश जख्मी हुए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है." 

एसएसपी के मुताबिक तीन दिन से आरोपियों की लोकेशन ट्रेस की जा रही थी. पुलिस का कहना है कि वारदात में राकेश के अलावा उसके दो भाई नीरज और चीना भी शामिल थे. एएसपी ने बताया कि शुक्रवार शाम को ही बदमाश जहां छिपे थे, उस इलाक़े की घेराबंदी कर ली गई थी. पकड़े गए बदमाश कुख्यात रंगा-बिल्ला गैंग के सदस्य बताए जा रहे हैं.

एएनआई

लूटे गए जेवरात बरामद

एसएसपी विपिन कुमार मिश्रा का कहना है कि लूट के इरादे से वारदात को अंजाम दिया गया था. एसएसपी ने बताया कि पुलिस टीम ने एनकाउंटर के दौरान लूटी गई ज्वैलरी और 20 लाख रुपये बरामद किए हैं. पुलिस का कहना है कि वारदात में इस्तेमाल हथियार जब्त कर लिया गया है. एसएसपी ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने बदमाशों की पहचान की.  

पढ़ें: 'मथुरा को आप नहीं संभाल पा रहे हमारी याद मत दिलाना'

वारदात के बाद यूपी पुलिस और योगी सरकार पर चौतरफा दबाव था. शुक्रवार को पूरे राज्य में सर्राफा कारोबारियों ने दुकानें बंद रखी थीं. व्यापारियों का 48 घंटे का अल्टीमेटम भी आज खत्म हो रहा था. इस मामले ने सियासी तूल भी पकड़ लिया था.

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने विधानसभा में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा था कि मथुरा आपसे संभल नहीं रहा, हमारी सरकार की याद मत दिलाना. वारदात के बाद पीड़ित परिवार से मिलने के लिए कैबिनेट मंत्री और मथुरा से विधायक श्रीकांत शर्मा और डीजीपी सुलखान सिंह पहुंचे थे, जिन्हें परिजनों की नाराजगी झेलनी पड़ी थी. 

मथुरा में क्या हुआ था?

मथुरा के कोयला गली इलाके में सोमवार रात दो ज्वैलर्स से 4 करोड़ के गहने लूट लिए थे. ज्वैलरी शॉप मयंक चेन्से के प्रोपराइटर विकास अग्रवाल (30) और डैम्पीयर नगर निवासी मेघ अग्रवाल (34) की हथियारबंद बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने घटना की जांच के आदेश दिए थे. फायरिंग में जख्मी विकास अग्रवाल के छोटे भाई मयंक अग्रवाल, कारीगर अशोक साहू और एक अन्य कामगार महमूद अली का इलाज चल रहा है. 

पढ़ें: मथुरा हत्याकांड: भड़के परिजन, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने जोड़े हाथ

वारदात की तफ्तीश के लिए पुलिस की पांच टीमें बनाई गई थीं. पीड़ित परिजनों ने मंत्री श्रीकांत शर्मा को बताया था कि वे लोग वारदात के वक्त पुलिस को फोन करते रहे, लेकिन मौका-ए-वारदात पर कोई नहीं पहुंचा. 

First published: 20 May 2017, 10:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी