Home » उत्तर प्रदेश » Migrant workers protest in Mathura on highway against administration
 

पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों का फूटा गुस्सा, आग लगाकर मथुरा हाइवे किया जाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2020, 13:11 IST

Migrant workers protest in Mathura: ल़ॉकडाउन (Lockdown) में रोजगार जाने और खाना-पीने की सुविधा न मिलने से देशभर (across country) में लाखों मजदूर (Labourers) पैदल ही पलायन करने पर मजबूर हैं. ऐसे में तमाम मजदूर हादसों का शिकार हो रहा हैं. अब मजदूरों का सब्र जवाब देने लगा है और वह प्रदर्शन करने के लिए मजबूर हो गए हैं. दरअसल, रविवार सुबह मथुरा में प्रवासी मजदूरों के सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने मथुरा के फरह में हाइवे जाम कर प्रदर्शन करने लगे. इस दौरान मजदूरों ने सड़क पर टायर डालकर उनमें आग लगा दी.

शासन-प्रशासन से नाराज मजदूरों का कहना था कि वह दो-तीन दिन से भूखे प्यासे हैं. उनके लिए कोई व्यवस्था नहीं की जा रही है. अब पैदल भी नहीं चलने दिया जा रहा है. घर जाने के लिए वाहन भी उपलब्ध नहीं कराए जा रहे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि मथुरा क्षेत्र में करीब ढाई हजार मजदूर परेशान घूम रहे हैं. प्रदर्शनकारी मजदूरों का आरोप है कि प्रशासन ने गाड़ियों की व्यवस्था नहीं कराई है और ना ही उन्हें खाना पीना मिल रहा है. घटना की सूचना मिलते ही डीएम-एसएसपी समेत भारी पुलिस बल मौके पर पहुुंच गया.


Coronavirus: पैदल घर जा रहे थे मजदूर, अचानक पहुंचे राहुल गांधी, कार से भिजवाया घर

COVID-19: दुनियाभर में मरने वालों का आंकड़ा 3.13 लाख के पार, भारत में चीन से ज्यादा संक्रमित

मथुरा के एसएसपी गौरव ग्रोवर ने बताया कि मजदूरों की भीड़ अचानक हाईवे पर आ गई और जाम लगा दिया. हंगामे के बाद आखिरकार पुलिस-प्रशासन ने ट्रक में बैठा कर फिर से मजदूरों को भेजना शुरू किया है. एसएसपी के मुताबिक, प्रवासी मजदूरों के लिए भोजन से लेकर उनको घर तक पहुंचाने की व्यवस्था की गई है. बता दें कि इससे पहले झांसी के रक्सा बॉर्डर पर मजदूरों ने जमकर हंगामा किया. वहीं प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने औरैया की घटना के बाद सभी फील्ड अफसरों को निर्देश दिया है कि प्रवासी श्रमिकों को पैदल न चलने दें.

 

Video: अपने बच्चे को बचाने के लिए तार पर कूदी बंदरिया, इसके बाद जो हुआ देख हो जाएंगे इमोशनल

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा श्रमिक स्पेशल ट्रेन की व्यवस्था की गई है. अपर मुख्य सचिव का कहना है कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि प्रवासी श्रमिक किसी भी स्थिति में पैदल न चलें. इसके लिए सभी पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया है कि जो भी श्रमिक आ रहे हैं, उन्हें बार्डर पर विवरण लेते हुए भोजन-पानी की व्यवस्था की जाए. उनकी स्क्रीनिंग की जाए. उन्हें सुरक्षित और सम्मानजनक तरीके से घर पहुंचाया जाए. मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रत्येक बार्डर पर 200 बसें लगाई गई हैं. सभी बार्डर के जनपदों में अतिरिक्त व्यवस्था की गई है.

जम्मू-कश्मीर के डोडा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी ढेर, एक जवान शहीद

कोरोना वायरसः भारत में अब तक का सबसे बड़ा उछाल, 24 घंटे में सामने आए 4987 नए मामले

First published: 17 May 2020, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी