Home » उत्तर प्रदेश » NEET Exam 2018: Before entering the Exam centre in Gorakhpur examiners check ears too
 

NEET Exam 2018: परीक्षा हॉल में जाने से पहले टॉर्च जलाकर कान तक की हुई जांच

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2018, 13:00 IST

एमबीबीएस में दाखिले के लिए आयोजित होने वाले राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट) शुरू हो गयी है. परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. वहीं परीक्षा में भाग लेने वाले स्टूडेंट्स के लिए कई नि‍यम तो ऐसे है, जो बड़े ही अजब-गजब हैं. इस बार इस परीक्षा में छात्रों को जूता पहनने की इजाजत नहीं दी गई है.

ये भी पढ़ें-दिल्ली: मौसम विभाग की चेतावनी, अगले दो घंटे में आ सकता है भयंकर आंधी-तूफान

साथ ही नियम के मुताबकि छात्रों को परीक्षा के अंतिम 30 मिनटों में टॉयलेट जाने की अनुमति भी नहीं मिलेगी. यूपी के गोरखपुर में तो छात्रों के कान में टॉर्च की रोशनी से जांच तक की गई. बता दें कि गोरखपुर में इस साल 16 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. जिनमें 9000 अभ्यर्थी परीक्षा दे रहे हैं. परीक्षा की संवेदनशीलता के मद्देनजर सख्त नियम बनाये गए थे और सभी केंद्रों पर उनका सख्ती से पालन भी हो रहा है.

हालांक‍ि ड्रेस कोड के बारे में पहले से कुछ लि‍खि‍त में नहीं था. लेक‍िन इसमें कहा गया क‍ि स्‍टूडेंट्स चप्पल, सैंडल में परीक्षा केंद्र आएं. लड़कियां लो हील्स की सैंडल या स्लीपर्स पहनकर आएं. बड़े बटन वाले कपड़े, गाड़े रंग के कपड़े पहनने से भी मना किया गया है. छात्रों को आधे बाजू की टी-शर्ट व शर्ट पहनने के लिए ही कहा गया है.

ये भी पढ़ें-पाकिस्तान की उड़ी नींद, बांग्लादेश ने कहा- भारत को इस्लामिक देशों के संगठन का पर्यवेक्षक बनाओ

बता दें कि 10 बजे से होने वाली इस परीक्षा के लिए सुबह 7:30 बजे से ही अभ्यर्थियों के आने का सिलसिला शुरू हो गया. चेकिंग के दौरान निर्धारित ड्रेस कोड पहन कर नही आने वाले छात्रों को प्रवेश नहीं दिया गया. ठीक 9:30 बजे केंद्रों के गेट बंद कर दिए गए, जिससे करीब 20-25 छात्र केन्द्र के इंट्री गेट के बाहर ही रह गए.

First published: 6 May 2018, 13:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी