Home » उत्तर प्रदेश » Noida: Yogi government going to start pending elevated road, It was the dream project of Mayawati
 

पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के अधूरे सपने को पूरा करने जा रही है योगी सरकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 November 2018, 12:14 IST

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रीमो मायावती के एक अधूरे सपने को पूरा करने जा रही है. खबर के अनुसार, मायावती सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट रहे नोएडा के एलिवेटेड रोड का काम योगी सरकार पूरा कराने जा रही है. बता दें कि मायावती सरकार ने महंगी लागत के कारण इन परियोजनाओं को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था.

योगी सरकार के आते ही इन प्रोजेक्ट को दोबारा शुरू किया जा रहा है. दरअसल, बढ़ते वायु प्रदूषण और वाहनों के जाम से निपटने के लिए इन्हें दोबारा जीवंत किया जा रहा है. नोएडा के सबसे लंबे डीएससी (दादरी-सूरजपुर- छलेरा) मार्ग पर 460 करोड़ रुपए की लागत से 5.5 किलोमीटर लंबी एलिवेटेड सड़क बनाई जाएगी. यह सड़क सेक्टर-41 स्थित आगहापुर पेट्रोल पंप से सेक्टर-82 स्थित एनएसईजेड (नोएडा विशेष निर्यात क्षेत्र) तक जाएगी. योजना है कि इस प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य जनवरी 2019 से शुरू हो जाएगा. 

पढ़ें- Video: चॉपर से गिरे अमित शाह तो लोगों ने लिखा- 'ये सस्ते गांजे का असर है'

वहीं नोएडा प्रवेश द्वार पर लगने वाले जाम के समाधान के लिए चिल्ला रेगुलेटर से महामाया फ्लाईओवर होते हुए एक्सप्रेस-वे तक एलिवेटेड सड़क की डीपीआर को अंतिम रूप दिया जा रहा है. इस एलिवेटेड रोड का खर्च तकरीबन 650 करोड़ रुपए आने की संभावना है. इस एलिवेटेड सड़क पर वाहनों के चढ़ने और उतरने के लिए चार जगहों पर स्लिप मार्ग दिए जाएंगे. मास्टर प्लान मार्ग नंबर-1 पर सेक्टर-19 चौराहे से 12/22 तक एलिवेटेड सड़क बनाने के लिए डीपीआर तैयार कराई गई है.

प्राधिकरण अधिकारियों के मुताबिक, एलिवेटेड सड़क बनाने में प्रति किलोमीटर करीब 100 करोड़ रुपए का खर्च आता है. मायावती सरकार ने बजट न होने के चलते ही इस परियोजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया था. एलिवेटेड रोड के हिस्से अलग यार्ड में बनाए जाते हैं, जिन्हें परियोजना स्थल पर लाकर जोड़ा जाता है. लागत को सीमित करने और काम में तेजी लाने के लिए यार्ड को एलिवेटेड सड़क परियोजना के आसपास बनाने की कोशिश की जा रही है. अधिकारियों ने सर्वे कर नई योजना तैयार की है.

पढ़ें- 'PM मोदी पर हमले में नाकाम रहे तो उनकी मां को गाली दे रहे कांग्रेस के लोग'

बता दें कि नोएडा सेक्टर-49 स्थित बरौला गांव से नोएडा सेक्टर-82 तक जाने वाली सड़क की चौड़ाई कम है. जिसकी वजह से यहां भी दिनभर जाम लगा रहता है. बरौला, सलारपुर व भंगेल में भारी जाम से निदान के लिए 2009 में एलिवेटेड मार्ग बनाने की योजना तैयार की गई थी. लेकिन तब बजट के कारण यह योजना रोकनी पड़ी थी.

First published: 26 November 2018, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी