Home » उत्तर प्रदेश » 'Nothing wrong with Hindu Rashtra': Yogi Adityanath in first interview as CM
 

योगी आदित्यनाथ: हिंदू राष्ट्र में कोई समस्या नहीं

अतुल चंद्रा | Updated on: 8 April 2017, 9:50 IST


उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद पहला टेलिविजन इंटरव्यू दूरदर्शन को दिया है. इस इंटरव्यू में योगी के एक जवाब ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने के पक्ष में एक बहस को फिर हवा दी है. उनका मानना है कि हिंदू राष्ट्र की अवधारणा में कुछ गलत नहीं है. टेलीविजन पर अपने पहले इंटरव्यू में उन्होंने कहा, ‘मुझे हिंदू राष्ट्र की अवधारणा में कुछ गलत नहीं लगता है.’ उन्होंने अपनी बात जारी रखी, ‘अगर वो राष्ट्र या रास्ता लोगों की जीवन शैली में सुधार लाता है, तो हमें उसे अपनाने से हिचकिचाना नहीं चाहिए.’


अपने तर्क के पक्ष में उन्होंने सर्वोच्च न्यायलय की हिंदूवाद की व्याख्या का उल्लेख किया, ‘सर्वोच्च न्यायालय ने हिंदूवाद को जीवन शैली बताया था. एक अच्छी जीवन शैली अपनाने में क्या नुकसान है,’ मुख्यमंत्री योगी ने 2005 में उत्तर प्रदेश के एटा में कहा था कि, ‘मैं तब तक नहीं रुकूंगा जब तक कि यूपी और भारत को हिंदू राष्ट्र नहीं बना दूं.’


जहां यूपी के मुख्यमंत्री भारत को हिंदू राष्ट्र के तौर पर देखना चाहते हैं, वहीं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने 2015 में एक रैली में कहा था कि भारत पहले से हिंदू राष्ट्र है क्योंकि हिंदुस्तान में रहने वाले सभी हिंदू हैं. उन्होंने कहा था, ‘एक भाषा, एक देवता, एक संप्रदाय बनाना होगा.’

 

आरएसएस का अजेंडा


आरएसएस की नीयत पर हमेशा संदेह रहा है. मुस्लिमों का एक वर्ग इसे लेकर चिंतित था कि पता नहीं आगे क्या होगा. चिंता थी कि क्या 1976 में 42 वें संशोधन के बाद भारतीय संविधान की प्रतावना में शामिल ‘धर्मनिरपेक्ष’ शब्द की जगह हिंदू राष्ट्र कर दिया जाएगा, और क्या मुसलमान और ईसाई को दोयम दर्जे के नागरिक का स्तर दिया जाएगा.


कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने इसे खतरनाक स्थिति बताई, जबकि समाजवादी पार्टी ने कहा कि मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं है. भाजपा ने अपने प्रवक्ता के माध्यम से सर्वोच्च न्यायलय की हिंदूवाद की व्याख्या का उल्लेख करते हुए उसका मजबूती से पक्ष लिया और कहा कि हिंदू राष्ट्र को धर्म के नजरिए से नहीं देखा जाना चाहिए.


वहीं सपा प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने पलटवार करते हुए कहा है कि हिंदू किसको मानते है योगी आदित्य नाथ , पहले निषाद समाज के लोगों को गोरखनाथ मंदिर का दायित्व सौंपे जिनका वास्तविक हक़ है मंदिर पर, बड़े बड़े मंदिरों का दायित्व दलित समाज के लोगों को दें तब समाजवादी लोग मानेगे की वास्तविक तौर पर आप हिंदुत्व के एजेंडे पर है, नहीं तो आप का हर बयान केवल ढकोसला और समाज को गुमराह करने वाला है और सत्ता के लाभ के लिए है.

साजन ने कहा कि अगर वास्तव में आप हिंदुत्व के एजेंडे पर हैं तो पहले ओबीसी ,दलित और पिछड़ो को उनको वो स्थान दीजिए जहाँ से आप आए हैं , आप उनको उन पवित्र स्थानो पर बैठाइए जहाँ से आप हिंदुत्व के एजेंडे से लोगों को गुमराह कर कुर्सी हासिल की है.

First published: 8 April 2017, 9:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी