Home » उत्तर प्रदेश » SP-BSP Alliance in 2019 Loksabha can lose BJP 50 seats in UP
 

बुआ-बबुआ में हुआ गठबंधन तो यूपी में 2019 में 50 सीटें गंवा सकती है भाजपा

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 March 2018, 11:32 IST

उत्तरप्रदेश की दो लोकसभा सीटों गोरखपुर और फूलपुर में हुए उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के हाथों बीजेपी की हार ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा के गठबंधन की संभावना को बढ़ा दिया है. एक रिपोर्ट की माने तो उत्तरप्रदेश में हुए आखिरी विधानसभा चुनाव के आंकड़ों का विश्लेषण करने से पता चलता है कि अगर सप-बसपा साथ आ जाये तो भाजपा उत्तर प्रदेश में लगभग 50 लोकसभा सीटों को खो सकती है.

रिपोर्ट के अनुसार सपा और बसपा के साथ आने से राज्य की 80 सीटों में से कम से कम 57 पर वह जीत हासिल कर सकते हैं जबकि भाजपा को केवल 23 सीटों पर सिमटना पड़ सकता है.

 

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए ने 80 लोकसभा सीटों में से 73 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इस चुनाव में सपा और बसपा ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. अलग-अलग चुनाव लड़ने से पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने जोरदार जीत दर्ज की थी. इन चुनावों सपा 403 सीटों में से सपा ने 47 सीटों जीत दर्ज की जबकि बसपा केवल 19 ही जीत पायी है.

इस चुनाव में सपा के गठबंधन सहयोगी कांग्रेस ने भी सात सीटों पर जीत हासिल की थी जबकि भाजपा ने 325 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की थी.

ये भी पढ़ें : उपचुनाव की हार पर बोले योगी 'खाई में गिरने से पहले सम्भले'

2017 के विधानसभा चुनाव आंकड़े बताते हैं कि अगर 2014 के लोकसभा के मुताबिक रहे तो सपा-बसपा मिलने के बाद भी महज 41 सीटें ही पाएंगे और बीजेपी को 37 सीटों पर जीत मिल सकती है. साल 2017 के आंकड़ों के अनुसार, सपा-बसपा एक साथ आती हैं तो उनकी सभी 57 लोकसभा सीटों पर औसतन 1.45 लाख वोटों से जीत होगी.

बीजेपी को 23 सीटों पर औसतन 58,000 वोटों के लीड से जीत मिल सकती है जबकि बीजेपी को सिर्फ चार सीटों वाराणसी, मथुरा, गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर में 1 लाख के ज्यादा मार्जिन से जीत मिलने की संभावना रहेगी.

First published: 16 March 2018, 11:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी