Home » उत्तर प्रदेश » The Children Of This School in Pilibhit Speaks 13 Languages
 

13 भाषाओं में बातचीत करते हैं इस स्कूल के बच्चे, जानिए कैसे किया ये कारनामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 December 2018, 15:12 IST
(livehindustan.com)

क्या आप सोच सकते हैं कि किसी स्कूल के बच्चे एक नहीं दो नहीं बल्कि 13 भाषाएं बोल सकते हैं. ये जानकर शायद आपको यकीन ना हो, लेकिन ये बात सच है कि उत्तर प्रदेश में पीलीभीत के एक स्कूल के बच्चे 13 भाषाएं बोलते हैं. दरअसल, पीलीभीत के मरौरी ब्लॉक उच्च प्राथमिक स्कूल कैंच के बच्चे ये कारनामा कर रहे हैं.

इस स्कूल के बच्चे तेलगु, तमिल, मलायलम, संथाली जैसी भाषाओं में अभिवादन करते हैं. यही नहीं वो आपस में बातचीत भी इन्हीं भाषाओं में करते हैं. यह उपलब्धि हासिल करने वाला कैंच का यह परिषदीयच्चे विद्यालय 1800 बेसिक स्कूल में से इकलौता है. इसी के चलते बच्चों के मां-बाप स्कूल प्रभारी और शिक्षकों की सराहना करते हैं.

बता दें कि सरकार ने स्कूली बच्चों में भाषा के जरिए एक भारत श्रेष्ठ भारत का भाव जगाने की पहल की है. इसके लिए सरकार ने सभी स्कूलों में भाषा संगम कार्यक्रम शुरू करने का निर्देश दिया था. इस कार्यक्रम के तहत स्कूलों में हर दिन बच्चों को देश में बोली जाने वाली किसी न किसी भाषा के बारे में बताया और सिखाया जाता है.

इसके लिए बीएसए ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश भी जारी किए थे और उन्होंने स्कूल के प्रधानाध्यापकों को इस पर अमल करने के लिए निर्देश दिए थे. यह कार्यक्रम स्कूलों में एक महीने तक चलना था और इसके बाद स्कूलों को बच्चों की फोटो और वीडियो विभागी वेबसाइट पर अपलोड भी करने थे.

ये भी पढ़ें- शख्स ने घर के बाहर देखा एलियन, भेज रहा था धरती के बारे में जानकारी, ईमेल भेजकर PMO को बताई ये बात

ये भी पढ़ें- वैज्ञानिकों ने 50 साल पहले उगाया था ये जंगल, अब यहां जाने के नाम से थर-थर कांपते हैं लोग

इस कार्यक्रम के अंत में जिले में यह कारनामा सिर्फ मरौरी ब्लाक के उच्च प्राथमिक स्कूल के इंजार्च प्रधानाध्यापक वैभव जैसवार ही कर पाए. उन्होंने अपनी मेहतन से बच्चों को मलियालम, मराठी, उर्दू, तमिल, तेलगु, सिंधी, पंजाबी, संथाली जैसी 13 भाषाओं का आधारभूत ज्ञान करवा दिया. उन्होंने बच्चों को इन भाषाओं के साथ ही वहां की संस्कृति से भी परिचित कराया. बता दें कि इस कार्यक्रम यानि भाषा संगम का 21 दिसंबर को समापन हो गया. इस मौके पर बच्चों ने जिस प्रांत की भाषा सीखी थी, उसी राज्य की वेशभूषा भी धारण की थी. साथ ही संवाद करके भी दिखाया.

ये भी पढ़ें- इस शहर के लोगों को बच्चा पैदा करने पर मिल रहा नकद इनाम, सरकार दे रही ढाई लाख रुपये

ये भी पढ़ें- कंपनी ने लड़की के इस खास अंग की 9 करोड़ रुपये लगाई कीमत, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

First published: 29 December 2018, 15:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी