Home » उत्तर प्रदेश » Thunderstorm Live Update 17 killed in UP on Wednesday
 

आंधी-तूफान ने यूपी में फिर मचाया तांडव, 17 लोगों की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 May 2018, 13:11 IST
(File Photo)

आंधी के कहर में एक बार फिर यूपी में कई लोगों की जान चली गई. बुधवार को आई आंधी में मरने वालो की संख्या बढ़कर 17 पहुंच गई. बुधबार शाम करीब 4 बजे आई धूल भरी आंधी ने जमकर उत्पात मचाया. कई जग पेड उखड़ गए. इस आंधी में सबसे अधिक इटावा में 4 लोगों की मौत हो गई. वहीं मथुरा में तीन लोगों की जान चली गई. आगरा, कानपुर और अलीगढ़ में भी आंधी ने 2-2 लोगों की जान ले ली. वहीं हाथरस, एटा, फिरोजाबाद और बुलंदशहर में एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई.

ताजनगरी आगरा में घूमने आए पर्यटकों को आंधी की वजह से तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ा. बता दें कि पिछले हफ्ते यूपी में आए तूफान से भीषण तबाही मची थी. जिसमें 70 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. तब से लेकर अब तक लोगों में आंधी-तूफान का खौफ खत्म नहीं हुआ. उधर बदलते मौसम को लेकर प्रशासन भी पूरी तरह अलर्ट है. योगी सरकार ने अधिकारियों को तत्काल मौके का निरीक्षण कर प्रभावित परिवारों को आर्थिक मदद देने के निर्देश दिए हैं.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे आगरा, अलीगढ, मथुरा और फिरोजाबाद सहित प्रभावित जिलों में आंधी तूफान से हुए नुकसान आकलन करें और प्रभावित लोगों तक तत्काल मदद पहुंचाएं. आंधी की वजह से पूर्वोत्तर के राज्य असम में भी भारी बारिश और तूफान के चलते व्यक्ति की मौत हो गई और 11 लोग घायल हो गए.

दिल्ली में आंधी के साथ भूकंप के झटकों से सहमे लोग

आंधी-तूफान की वजह से तो लोग पहले से ही खौफ में हैं. बुधवार की शाम करीब सवा चार बजे आंधी और बारिश के बीच दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस होने के बाद लोग खौफ में आ गए. भूकंप के झटके हरियाणा, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल में भी महसूस किए गए. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.2 मापी गई. भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान और ताजिकिस्तान के बॉर्डर पर बताया गया है.

पहाड़ों पर हुई बर्फबारी

मैदानी इलाकों में जहां तेज आंधी-तूफान ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है तो वहीं उत्तराखंड और हिमाचल की पहाडि़यों पर पिछले 3-4 दिनों में भारी बर्फबारी और बारिश हुई है. जिसके चलते जगह -जगह पर्यटक फंसे हुए हैं. बता दें कि उत्तराखंड के लामबगड में भारी बारिश के बाद भूस्खलन के दौरान पहाड़ी से मलबा और बोल्डर गिरने की वजह से मार्ग पर यातायात करीब आठ घंटे के लिए बंद करना पड़ा.

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी Forbes की टॉप 10 ताकतवर हस्तियों में शामिल, नोटबंदी बनी बड़ी वजह

First published: 10 May 2018, 9:47 IST
 
अगली कहानी