Home » उत्तर प्रदेश » UP: 57 girls in shelter home COVID positive, 7 pregnant, Priyanka Gandhi accused of suppressing the case
 

यूपी : शेल्टर होम में 57 लड़कियां कोविड पॉजिटिव, 7 गर्भवती, प्रियंका गांधी ने लगाए ये आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2020, 11:24 IST

उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक सरकारी आश्रय गृह में रहने वाली 57 लड़कियों को कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है. इस खबर के सामने आने के बाद तब और भी हड़कंप मच गया जब सामने आया कि इनमें से सात लड़कियां गर्भवती हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बाल संरक्षण गृह में रहने वाली लड़कियों में से एक में एचआईवी संक्रमण की भी पुष्टि हुई है. जिन सात लड़कियों को गर्भवती पाया गया है, उनमें से पांच को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है जबकि दो को कोरोना निगेटिव पाया गया है. सभी 57 लड़कियों को इलाज के लिए कोविड-19 अस्पतालों में ले जाया गया है जबकि स्टाफ और अन्य, जिन्हें निगेटिव पाया गया था, उन्हें क्वारंटाइन किया गया है.

आश्रय गृह को पूरी तरह सील कर दिया गया है. कानपुर के जिला मजिस्ट्रेट ब्रह्मदेव राम तिवारी का कहना है "आश्रय गृह में कुल 57 बालिकाएं कोविड पॉज़िटिव पाई गई हैं. सात बालिकाएं गर्भवती पाई गईं जिनमें पांच कोरोना संक्रमित भी हैं. जिन पांच लड़कियों को कोविड पॉज़िटिव पाया गया है, उन्हें आगरा, एटा, कन्नौज, फ़िरोज़ाबाद और कानपुर नगर की बाल कल्याण समिति से यहां लाया गया था. ये सभी लड़कियों यहां आने से पहले ही गर्भवती थीं और इसकी पूरी जानकारी प्रशासन के पास है."


12 जून को रैंडम सैंपल टेस्ट के बाद आश्रय गृह में मामले सामने आये. आश्रय गृह के अधिकारियों ने एक पॉजिटिव मामला सामने आने के बाद सभी 171 लड़कियों का परीक्षण किया. 15 से 17 वर्ष की उम्र के बीच के सात लड़कियों को संक्रमित पाया गया. एक स्टाफ सदस्य के भी संक्रमित होने की खबर है. अधिकारियों को संदेह है कि आश्रय गृह में स्टाफ सदस्य संक्रमण का स्रोत हो सकता है. 

आश्रय गृह की घटना के बाद राज्य में राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप शरू हो गए हैं. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने राज्य सरकार पर आश्रय घरों में बच्चों के शोषण के बारे में तथ्यों को दबाने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा "पूरे देश को मुजफ्फरपुर आश्रय गृह का मामला पता है," उसने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा था “उत्तर प्रदेश के देवरिया में एक ऐसा ही मामला सामने आया. इससे पता चलता है कि जांच के नाम पर सब कुछ दबा हुआ है. राज्य में संचालित बाल आश्रय गृहों में कई अमानवीय घटनाएं हो रही हैं. ” 

एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार कानपुर के पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार ने कहा कि लड़कियों के गर्भवती होने के मामले को अनावश्यक तूल दिया जा रहा है. उन्होंने कहा "लड़कियां शेल्टर होम आने से पहले ही गर्भवती थीं. ये जहां से आई हैं, वहां अभियुक्तों के ख़िलाफ़ केस भी दर्ज हैं." केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस के 16,594 मामले और 507 मौतें हुई हैं.

Coronavirus Update : पिछले 24 घंटों में 14,400 नए मामले, 400 से अधिक मौतें

First published: 22 June 2020, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी