Home » उत्तर प्रदेश » UP Byelections: Pithadishwar will win in Gorakhpur or caste equation
 

यूपी उपचुनाव: गोरखपुर में पीठाधीश्वर जीतेंगे या जातीय समीकरण

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 March 2018, 23:15 IST

रविवार को होने वाले  को यूपी उपचुनाव यूपी आदित्यनाथ के  लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. 29 सालो से गोरखपुर की इस सीट पर गोरखनाथ मंदिर का प्रभाव रहा है. यूपी के सीएम योगी आदित्याथ पांच बार यहां से चुनाव जीत चुके हैं. इससे पहले इस सीट पर गोरखनाथ मंदिर से पीठाधीश्वर चुनाव जीतते रहे हैं.

गोरखनाथ मंदिर के कब्जे वाली इस सीट पर पहली बार जबरदस्त जातीय मोर्चाबंदी देखी जा रही है. मंदिर से जुड़ाव और पीठाधीश्वर के प्रत्याशी होने के कारण अब तक यहां जातीय काम नहीं कर पाते थे. 29 साल में पहला मौका है जब पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ खुद चुनाव मैदान में नहीं हैं. भाजपा ने यहां उपेन्द्रदत्त शुक्ल को प्रत्याशी बनाया है. 

 

सपा ने जातीय आंकड़ों को देखते हुए निषाद पार्टी के अध्यक्ष के पुत्र को प्रत्याशी बना दिया .निषाद, यादव मुस्लिम वोटबैंक का फायदा लेने को यह दांव चला गया है. कांग्रेस ने यहाँ से सुरहिता करीम को उम्मीदवार बनाया है. इस सीट पर कुल कुल 10 उम्मीदवार खड़े हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा कि लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र गोरखपुर से लोगों ने पांच साल के लिए पाहे ही चुना लिया था. उन्होंने कहा कि समाजवादवादी पार्टी ने यहां एक इम्पोर्ट उम्मीदवार खड़ा किया है. उन्होंने कहा यूपी के लोग राज्य में औरंगजेब शासन नहीं चाहते हैं.

उप-चुनावों में एसपी को बसपा के समर्थन का जिक्र करते हुए, आदित्यनाथ ने कहा जब सपा को पता चला कि आयातित उम्मीदवार मैदान में उतारने की रणनीति काम नहीं आ रही है तो उन्होंने साइकिल पर हाथी को बैठा दिया.

First published: 10 March 2018, 17:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी