Home » उत्तर प्रदेश » UP: CBI inquiry on mayawati in Rs 1179 crore UP sugar mill scam
 

चीनी मिल बिक्री मामला: मायावती पर CBI ने कसा शिकंजा, जल्द दर्ज कर सकती है केस

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2018, 11:27 IST

बसपा सुप्रीमो मायावती को बड़ा झटका लगा है. खबर है कि CBI उनके खिलाफ जल्द केस दर्ज कर सकती है. दरअसल CBI ने उनके शासनकाल में बेची गई 21 चीनी मिलों की जांच शुरू कर दी है. इस कार्रवाई में मायावती के अलावा बीएसपी से बाहर गए नसीमुद्दीन सिद्दिकी भी फंस सकते हैं. लोकसभा चुनाव से पहले चीनी मिलों की सीबीआई जांच ने मायावती को मुश्किल में डाल दिया है.

गौरतलब है कि मायावती सरकार में हुए 1180 करोड़ रुपए के चीनी मिल बिक्री घोटाले की जांच पिछली अखिलेश यादव सरकार ने नवंबर 2012 में लोकायुक्त को सौंपी थी. इस मामले में तत्कालीन लोकायुक्त न्यायमूर्ति एनके मेहरोत्रा ने डेढ़ साल से ज्यादा समय तक जांच भी की थी, हालांकि तब इस पर कोई नतीजा नहीं निकला था.

 

लेकिन अब राज्य में बीजेपी शासित योगी आदित्यनाथ सरकार आने के बाद 21 चीनी मिलों की बिक्री का मामला फिर उछला है. सीबीआई ने पूरे मामले को टेकओवर कर जांच शुरू कर दी है. सीबीआई ने बिक्री के दस्तावेजों की समीक्षा करनी शुरू कर दी है. इस मामले में कई आईएएस अफसर और नेता जांच के घेरे में हैं.

पढ़ें- कर्नाटक चुनाव में BJP के सबसे ज्यादा क्रिमिनल और करोड़पति उम्मीदवार, रिपोर्ट में खुलासा

खबर है कि मायावती पर जल्द ही एफआईआर भी दर्ज हो सकती है. सीएम योगी ने चीनी मिल बेचे जाने को बड़ा घोटाला बताया था. इन मिलों में देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज, हरदोई, रामकोला चीनी मिलें शामिल हैं. वहीं चित्तौनी और बाराबंकी की भी चीनी मिलों पर जांच की आंच आ गई है. संभावना जताई जा रही है कि सोमवार को मायावती इस मामले में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस भी कर सकती हैं.

First published: 7 May 2018, 11:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी