Home » उत्तर प्रदेश » up cm yogi adityanath upcoming mathura visit administration cut raw crops of a farmer
 

मथुराः सीएम योगी की वजह से किसान की लहलहाती फसल काटी, अगले महीने है बेटी की शादी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 February 2018, 13:20 IST

इन दिनों उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मथुरा आने की जोरदार तैयारियां चल रही हैं. सीएम के आगमन से लोगों में खुशी की लहर है. लोगों को उम्मीद है कि सीएम के मथुरा भ्रमण से यहां के किसान और लोगों को कुछ लाभ मिलेगा, लेकिन यहां एक व्यक्ति को इस बात की कोई खुशी नहीं है कि उन्हें क्या मिलेगा. ये व्यक्ति एक किसान है और मुख्यमंत्री के आगमन से पहले ही बेहद परेशान है.

दरअसल, सीएम योगी आदित्यनाथ के हेलिकॉप्टर की लैंडिंग के लिए इस किसान की गेहूं की फसल को पकने से पहले ही काट दिया गया. इस फसल को काटकर ही यहां हैलीपेड बनाया जाना है. नरेंद्र भारद्वाज नाम के इस किसान के कच्चे गेहूं काटने से पूरी की पूरी फसल बर्बाद हो चुकी है. इसी के चलते इस नरेंद्र भारद्वाज को रात दिन चैन नहीं मिल रहा और वह बेहद परेशान हैं.

ये भी पढ़ें- कलाम को आदर्श मानकर कमल हासन ने रखा तमिलनाडु की राजनीति में कदम

लीज पर लिया था नरेंद्र भारद्वाज ने खेत

नरेंद्र कुमार भारद्वाज के मुताबिक उन्होंने 5 एकड़ जमीन खेती के लिए लीज पर ली थी. जिसके लिए उन्होंने 60 हजार रुपये चुकाए थे. बता दें कि नरेंद्र भारद्वाज बरसाना के रहने वाले हैं. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ 24 फरवरी को यहीं आने वाले हैं. किसान के मुताबिक उनके पास खेती के अतिरिक्त आमदनी का अन्य कोई जरिया नहीं है. अपनी मेहनत को आंखों के सामने बर्बाद होता देख नरेंद्र बेहद चिंतित है.

अप्रैल में होनी है किसान नरेंद्र की बेटी की शादी

पीड़ित नरेंद्र भारद्वाज के मुताबिक उनकी बेटी की शादी अप्रैल में होनी है. खेती के अतिरिक्त उसके पास आमदनी का अन्य कोई जरिया नहीं है. प्रशासन ने उसे फसल काटने के बदले कोई मुआवजा भी नहीं दिया है. किसान का कहना है कि जब उसने प्रशासनिक अधिकारियों से मुआवजे की बात कही तो उन्होंने कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया.

बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ यहां होली के कार्यक्रम में शिरकत करने आ रहे हैं. इसी कार्यक्रम के दौरान सीएम 24 फरवरी को बरसाना स्थित श्रीराधा बिहारी इंटर कालेज के मैदान पर एक सभा को सम्बोधित करेंगे. हेलीपैड बनाने के लिए कॉलेज ग्राउंड के बराबर वाला खेत सुनिश्चित किया गया है जिसमें किसान नरेंद्र ने फसल तैयार की थी.

First published: 21 February 2018, 13:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी