Home » उत्तर प्रदेश » UP Electricity Regulatory Commission (UPERC) announces hike in power tariffs after local body election held in
 

निकाय चुनाव खत्म होते ही योगी सरकार ने दिया बिजली का 'करंट'

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 November 2017, 15:18 IST

उत्तर प्रदेश में निकाय चुनाव खत्म होते ही योगी सरकार ने बिजली का करंट दिया है. बुधवार को निकाय चुनाव खत्म होते ही राज्य विद्युत नियामक आयोग ने गुरुवार को बिजली की दरों में बढ़ाने का एलान कर दिया. बिजली की दरों में बढोतरी का असर सीधे तौर पर आम लोगों के बज़ट पर पड़ेगा.

राज्य में बिजली की दरों में वृद्धि के कयास काफी समय से लगाये जा रहे थे. योगी सरकार ने बिजली मंहगी करने के लिए नगर निकाय चुनाव के रिजल्ट का भी इंतजार किया. हम आपको बता दें कि शुक्रवार को यूपी मेें नगर निकाय के रिजल्ट घोषित होंगे. हम आपकों बता दें कि यूपी में सरकार बनाने से पहले भाजपा ने जनता को 24 घंटे बिजली देने का वादा किया था.

यूूपी के राज्य विद्युत नियामक आयोग ने जो नई कीमतें तय की हैं, उसके अनुसार 100 यूनिट तक बिजली खर्च करने पर लोगों को 3 रुपये प्रति यूनिट चुकाने होंगे. 100 यूनिट से ज्यादा बिजली का उपयोग करने पर लोगों को 4.50 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से भुगतान करना होगा.

उत्तर प्रदेश विद्युत नियामक आयोग ने ग्रामीण इलाकों मे रहने वालों को भी बिजली का तगड़ा झटका दिया है. साल 2017-18 के लिए जिन ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों के घर मीटर नहीं लगा है. इन लोगों को महीने का बिल 300 रुपये देना होगा जो बढोतरी से पहले 180 रुपये महीने था.

गौरतलब है कि इस समय में यूपी के बिजली विभाग को करीब 75 हजार करोड़ रुपये का घाटा है. यूपी के उर्जा विभाग की बिजली कंपनियों ने राज्य विद्युत नियामक आयोग को काफी समय से बिजली की दरों में बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव भेजा था. 

First published: 30 November 2017, 15:18 IST
 
अगली कहानी