Home » उत्तर प्रदेश » UP: Ganga-Yamuna rivers overflow in Prayagraj, thousands of houses submerged in water
 

यूपी: प्रयागराज में गंगा-यमुना नदियां उफान पर, पानी में डूबे हजारों घर, सैकड़ों छात्रों का NDRF ने किया रेस्क्यू

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 August 2021, 8:53 IST
prayagraj (ani)

Prayagraj Flood: उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में इन दिनों बाढ़ की स्थिति है. जिले को दोनों तरफ से घेरे हुईं दोनों नदियों गंगा और यमुना इन दिनों उफान पर हैं. संगम नगरी में गंगा और यमुना दोनों नदियों में आई बाढ़ की वजह से गांव से लेकर शहर तक हाहाकार मचा हुआ है. गंगा और यमुना नदियां रविवार रात को ही खतरे के निशान 84.734 मीटर को पार कर गई हैं.

गंगा और यमुना का जलस्तर अभी भी तेजी से बढ़ रहा है. आलम यह है कि हजारों घर पानी में डूब गए हैं और सड़कों पर नाव चलने लगी है. बाढ़ की वजह से कछारी और निचले इलाकों के हजारों मकान पानी में समा गए हैं. इन इलाकों में लोग घरों की पहली और दूसरी मंजिल पर शरण लिए हुए हैं. बाढ़ से सबसे ज्यादा परेशानी सलोरी और छोटा बघाड़ा इलाके में रह रहे लोगों को हो रही है.

बता दें कि इन इलाकों में प्रतियोगी छात्रों की बहुत अधिक संख्या है. ज्यादातर मकान पानी में डूब जाने की वजह से यहां रहने वाले छात्रों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है. इन दिनों कई प्रतियोगी परीक्षायें चल रही हैं, लेकिन बाढ़ में फंसे छात्रों के लिए प्रशासन की ओर से कोई इंतजाम नहीं किया गया है. प्रशासन इन छात्रों को अपने घर लौट जाने के लिए कह रहा है.

यहां तक कि बाढ़ में फंसे प्रतियोगी छात्रों को निकालने के लिए एनडीआरएफ की टीमें वाराणसी से प्रयागराज आईं. एनडीआरएफ की टीम लगातार छोटा बघाड़ा और सलोरी इलाके में फंसे छात्रों को रेस्क्यू कर रही है. सोमवार को एनडीआरएफ की टीम ने छोटा बघाड़ा में 5 फीट तक भरे पानी से छात्रों को सुरक्षित बाहर निकाला.

यूपी चुनाव को लेकर BJP ने कसी कमर, 20 अगस्त तक सभी 403 विधानसभा सीटों में करेगी बैठक

UP Election 2022: खराब प्रदर्शन करने वाले विधायकों का कटेगा टिकट, BJP अध्यक्ष ने दिए संकेत

First published: 10 August 2021, 8:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी