Home » उत्तर प्रदेश » UP: Nasimuddin siddiqui illegal construction demolished in lucknow cantt area
 

लखनऊ में बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी का अवैध निर्माण गिराया जाएगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2017, 16:21 IST
Naseemuddin Siddiqui

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के कद्दावर नेता और मायावती के शासन में आवास मंत्री रहे नसीमुद्दीन सिद्दीकी के छावनी स्थित बंगले में हुए अवैध निर्माण को ध्वस्त किया जाएगा. सूचना के मुताबिक यह बंगला सिद्दीकी की पत्नी हुस्ना सिद्दीकी के नाम से खरीदा गया था.

बताया जा रहा है कि जिस अवैध निर्माण को ध्वस्त किया जाएगा वो 12 थिमैया रोड स्थित बंगला मध्य कमान के पूर्व सेनाध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल डीएस चौहान की पत्नी मीरा चौहान के नाम दर्ज है. इस बंगले को 17 फरवरी 2011 को मीरा चौहान ने सेल डीड कर नसीमुद्दीन सिद्दीकी की पत्नी हुस्ना सिद्दीकी को बेच दिया  था. जिसके नामांतरण की प्रक्रिया अभी भी रक्षा संपदा कार्यालय में लंबित है.

छावनी परिषद कैंट क्षेत्र में अवैध निर्माण को ध्वस्त करने के लिए कैंटोनमेंट बोर्ड, एक्ट की धारा 320 के तहत उसे ध्वस्त करने की नोटिस जारी करेगा. इस प्रस्ताव पर मंगलवार को हुई बोर्ड बैठक में मंजूरी मिल चुकी है. बोर्ड बैठक में ही छावनी के जल संकट को दूर करने के लिए भी चार ओवरहेड वॉटर टैंकों के निर्माण में बढ़ी लागत की बाधा को भी दूर कर दिया गया.

अब बढ़ी लागत की मंजूरी का मामला मध्य कमान से दूर कर दिया गया. अब इसकी इजाजत मध्य कमान सेनाध्यक्ष से ली जाएगी. इस बंगले में छह जुलाई 2012 को छावनी परिषद के जेई और ड्राफ्टमैन ने निरीक्षण किया. जहां बिना अनुमति के निर्माण होना पाया गया. इसके बाद काम रुकवाने की नोटिस दी गई तो मामला मध्य कमान मुख्यालय पहुंच गया था.

मध्य कमान ने पांच साल तक मामले को लंबित रखा और फिर सीईओ की नोटिस पर ही सवाल उठा दिया. दोबारा नोटिस भेजने के आदेश हुए, जिस पर छावनी परिषद ने इस साल फरवरी में नोटिस फिर से दिया.

इस बार जो जवाब हुस्ना सिद्दीकी की ओर से दिया गया उसमें कहा गया कि बंगला मीरा चौहान के नाम दर्ज है और वह केवल काबिज हैं. मंगलवार को बोर्ड में हुस्ना सिद्दीकी की ओर से ठोस जवाब न देने और अपील न किए जाने पर अवैध निर्माण को ढहाने के लिए नोटिस जारी करने का निर्णय हुआ.

First published: 4 May 2017, 16:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी