Home » उत्तर प्रदेश » UP: One BJP MP theten ASP in Barabanki
 

योगी राज में महिला भाजपा सांसद ने ASP को हड़काया- सुधर जाओ वरना खाल खिंचवा लूंगी

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2017, 15:14 IST
Yogi Aditya nath

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ एक तरफ तो प्रशासन को चुस्त-दुरूस्त करने में लगे हैं, वहीं दूसरी ओर उन्हीं की पार्टी के सांसद और विधायक अधिकारियों को धमकाने में जरा भी नहीं हिचक रहे हैं.

खबरों के अनुसार यूपी के बाराबंकी से भाजपा सांसद प्रियंका रावत ने जिले के आला पुलिस अधिकारी को खाल खिंचवाने की धमकी दी है.

बताया जा रहा है कि सांसद प्रियंका रावत ने बाराबंकी में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सरेआम पुलिस अधिकारी को धमका दिया. सांसद रावत ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सबके सामने एएसपी कुंवर ज्ञानंजय सिंह को भ्रष्ट और प्रॉपर्टी डीलर करार दिया.

इसके साथ ही सांसद महोदया ने यह भी कहा कि पिछली सरकार में तुमने जितनी मलाई खाई है, सब निकलवा लेंगे और तुम्हारी खाल भी खिचवा लेंगे.

महिला सांसद प्रियंका रावत ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि उन्होंने पुलिस अधिकारी को कत्ल की जांच के सिलसिले में फोन किया था, जिसकी तहकीकात उनकी निगरानी में हो रही थी. उसी दौरान फोन पर पुलिस अधिकारी कुंवर ज्ञानंजय सिंह से उनकी बहस हुई.

बकौल सांसद पुलिस अधिकारी सिंह ने कथित रूप से सांसद से कहा, “मैं पुलिस वाला हूं. मुझे पता है, मैं क्या कर रहा हूं.”

वहीं दूसरी तरफ यह कहा जा रहा है कि एएसपी ने कत्ल की जांच में उनकी सिफारिश मानने से इनकार कर दिया था. जिसके बाद से वो एएसपी कुंवर ज्ञानंजय सिंह पर बहुत गुस्से में थीं.

सांसद रावत एएसपी सिंह से इतनी नाराज हो गईं कि प्रेस कांफ्रेंस में अपना आपा ही खो बैठीं और सबके सामने एएसपी को खाल खिंचवा लेने की धमकी देने लगीं.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में जब से योगी आदित्यनाथ की नई सरकार ने कामकाज संभाला है. तभी से सत्ता पक्ष के कुछ सांसद और विधायक योगी आदित्यनाथ के प्रभावी सुशासन की आड़ में आये दिन अधिकारियों के साथ बदसलूकी कर रहे हैं.

दो ही दिन पहले बीजेपी विधायक केसर सिंह पर आरोप लगा था कि उन्होंने एक बैंक मैनेजर को सिर्फ इसलिए मारा क्योंकि बैंक मैनेजर ने काम की व्यस्तता की वजह से उन्हें तवज्जो नहीं दिया. हालांकि विधायक केसर सिंह ने बैंक मैनेजर को पीटने के आरोप का खंडन किया है.

जबकि इससे इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी भाजपा सांसदों को ये नसीहत दे चुके हैं कि अधिकारियों पर काम में न तो दखलंदाजी दें और न ही दबाव बनाएं.

वहीं दूसरी तरफ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और नवनियुक्त डीजीपी सुलखान सिंह भी बार-बार अधिकारियों को बिना दबाव के काम करने के निर्देश दे रहे हैं. ऐसे में बीजेपी सांसद का एक पुलिस अधिकारी को इस तरह धमकी देना पीएम मोदी और सीएम योगी के इरादों पर भारी सवाल खड़े कर रहा है.

First published: 28 April 2017, 15:00 IST
 
अगली कहानी