Home » उत्तर प्रदेश » UP: Police bitten teachers in front of assembly , one died
 

यूपी: विधानसभा के सामने पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर टीचरों को पीटा, एक की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:47 IST
(एजेंसी)

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बुधवार को विधानसभा के सामने प्रदर्शन कर रहे शिक्षकों को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, जिसमें एक प्रवक्ता की मौत हो गई जबकि दर्जनों गंभीर रूप से घायल हो गए. ये शिक्षक पुरानी पेंशन बहाली को लेकर धरना दे रहे थे.

जानकारी के मुताबिक पुलिस लाठीचार्ज में मारे गए शिक्षक डॉ. रामाशीष कुशीनगर माध्यमिक विद्यालय में पढ़ाते थे. वर्ष 2005 के बाद नियुक्त हुए शिक्षकों और प्रवक्ताओं ने पेंशन बहाली को लेकर एक ऑल टीचर्स एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (अटेवा) नाम का संघ बनाया. इसी के तहत बुधवार को वे विधानसभा घेरने पहुंचे थे.

लाठीचार्ज में शिक्षक रामाशीष की मौत

शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे शिक्षक जब विधानसभा की तरफ बढ़े तो पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की. इसी दौरान उनकी पुलिस से झड़प हो गई, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया.

बताया जा रहा है कि इस लाठीचार्ज में रामाशीष को सिर में चोट आई और वे वहीं सड़क पर गिर गए. इसके बाद उन्हें सिविल हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

इस मामले में 'पेंशन बचाओ मंच' के प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार ने बताया कि धरना-प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने शिक्षक रामाशीष को इतना मारा कि अस्पताल में उनकी मौत हो गई.

2005 के बाद नियुक्त शिक्षकों के लिए पेंशन की मांग

उन्होंने बताया, "हजारों शिक्षक अपनी मांग को लेकर लखनऊ में जुटे थे. पहले सरकारी नौकरी करने वाले को अवकाश प्राप्त हो जाने के बाद जीवन पर्यंत पेंशन मिलती थी, जिससे उसका गुजारा हो जाता था. अब एक अप्रैल 2005 के बाद से नियुक्त कर्मचारियों को कोई पेंशन नहीं मिलेगी."

विजय कुमार ने कहा, "इस मामले को लेकर हमारी मुलाकात मुख्यमंत्री से भी हो चुकी है, लेकिन हमारी मांग को लेकर सरकार की ओर से कुछ नहीं किया गया."

First published: 8 December 2016, 11:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी