Home » उत्तर प्रदेश » up police cops at dial 100 project denied help to victims said dont want blood stains in car In saharanpur
 

'गाड़ी गंदी हो जाएगी' कहकर यूपी पुलिस ने अस्पताल ले जाने से किया इंकार, दो घायलों की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 January 2018, 8:40 IST

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही अपनी सरकार को गरीबों, पीड़ितों और असहायों की सरकार बताते हों लेकिन उनकी पुलिस न तो गरीबों के लिए काम कर रही है न असहायों के लिए. इसकी बानगी सहारनपुर जिले से देखने को मिली. जब रोड एक्सीडेंट में गंभीर रूप से घायल दो किशोरों को यूपी की पुलिस ने अस्पताल ले जाने से यह कहकर मना कर दिया कि 'गाड़ी गंदी हो जाएगी.'

सहारनपुर जिले की इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. सहारनपुर के एसपी (सिटी) प्रबल प्रताप सिंह ने बताया कि गुरुवार देर रात अर्पित खुराना (17) और उसका दोस्त सन्नी (17) बाइक से अपने घर लौट रहे थे तभी बेरी बाग इलाके मे मंगलनगर चौक पर इनकी बाइक अनियन्त्रित होकर एक खम्बे से टकरा गई और पास स्थित एक नाले मे गिर गई.

 

आसपास के लोगों ने तुरन्त ही इन दोनों किशोरों को नाले से बाहर निकाला तो वे खून से लथपथ थे. लोगों ने डायल 100 को सूचित किया. लोगों ने बताया कि डायल 100 पर तैनात पुलिसकर्मियो ने घायल किशोरों को अपनी गाडी मे बैठाकर अस्पताल ले जाने से मना कर दिया. इन पुलिसकर्मियों का कथित रूप से यह कहना था कि खून से गाड़ी गंदी हो जायेगी.

बाद में दोनों घायलों को टैम्पो के माध्यम से अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया. एसपी सिटी ने कहा कि यह घटना गंभीर है और वह वीडियो देख रहे हैं. घटना स्थल पर मौजूद एक युवक घायल लड़के को उठाकर पुलिस वाले से कार का दरवाजा खोलने का आग्रह भी कर रहा है. इस पर पुलिस की तरफ से जवाब आ रहा है, "कार गंदी हो जाएगी, अगर वह घायलों को गंदी कार में बिठा लेंगे तो फिर सारी रात वह गंदी कार में कहां बैठेंगे?"

हालांकि बाद में एसपी ने सख्त कार्रवाई करते हुए डायल 100 पर तैनात तीनों पुलिसकर्मियों हेड कांस्टेबल इन्द्रपाल सिह, कांस्टेबल पंकज कुमार और चालक मनोज कुमार को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया.

First published: 20 January 2018, 8:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी