Home » उत्तर प्रदेश » UP: Students of a Meerut school allege they were asked to get Yogi haircut
 

स्कूल में पढ़ना है तो 'योगी हेयरकट' रखना है!

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2017, 12:18 IST
(फाइल फोटो)

मेरठ के एक निजी स्कूल के छात्रों ने आरोप लगाया है कि उनसे स्कूल में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरह योगी हेयरकट रखकर आने को कहा गया है. यही नहीं छात्रों का आरोप है कि उन बच्चों को निशाना बनाया जा रहा है जो टिफिन में नॉन वेजीटेरियन (मांसाहारी) खाना लेकर आते हैं. 

छात्रों का आरोप है कि योगी हेयरकट में नहीं आने पर उन्हें स्कूल में एंट्री नहीं देने का फरमान सुनाया गया है. परिजनों का कहना है कि इस निजी स्कूल के सचिव गुंडागर्दी पर उतारू हैं. नया आदेश नहीं मानने वाले बच्चों की पिटाई का भी आरोप लगाया जा रहा है. 

प्राइवेट स्कूल के सचिव रंजीत जैन ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा, "मैंने छात्रों को अनुशासन में रहने की हिदायत देने के साथ ही फौजी कट में बाल रखने को कहा है."

 

क्या है पूरा विवाद? 

मामला मेरठ के थाना सदर बाजार के 'ऋषभ एकेडमी स्कूल' का है. गुरुवार को स्कूल का तुगलकी फरमान नहीं मानने वाले दो बच्चों को स्कूल से बाहर निकाल दिया गया. स्कूल में अंडा और मीट लेकर आने वाले बच्चे कथित तौर पर स्कूल प्रशासन के निशाने पर हैं.

एक छात्र के परिजन का आरोप है, "बच्चे को बोला जा रहा है कि योगी जी जैसे बाल कटवा कर आओ. यह कोई मदरसा है जो दाढ़ी और बाल बढ़ा के आ रहे हो. योगी जैसे बाल के बजाए कहना चाहिए कि बाल छोटे करवाकर आओ."

मेरठ के एसपी अलोक प्रियदर्शी का कहना है कि अभी इस मामले में पुलिस को कोई लिखित शिकायत नहीं मिली है. गौरतलब है कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से पांच बार सांसद रह चुके हैं. गोरखपुर में अक्सर एक प्रचलित नारा सुनने को मिलता था कि गोरखपुर में रहना है तो योगी-योगी कहना है. 

उनके यूपी की कमान संभालने के बाद कुछ उत्साही समर्थक ये भी कहने लगे कि यूपी में रहना है तो योगी-योगी कहना है. अब मेरठ के स्कूल का मामला सामने आने के बाद तो लगता है कि ये भी कहना पड़ेगा कि "स्कूल में पढ़ना है, तो योगी हेयरकट रखना है."

First published: 28 April 2017, 12:18 IST
 
अगली कहानी