Home » उत्तर प्रदेश » UP: woman alleged bjp mla roshan lal verma and son for gangrape
 

UP: एक और BJP MLA और उनके बेटे पर लगा गैंगरेप का आरोप, पीड़िता ने दी आत्मदाह की धमकी

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 May 2018, 12:08 IST

उन्नाव गैंगरेप केस के बाद शाहजहांपुर के बीजेपी विधायक और उनके बेटे पर गैंगरेप का आरोप लगा है. शाहजहांपुर में जिला कलेक्ट्रेट ऑफिस के बाहर धरना पर बैठी युवती ने बताया कि 2011 में दोनों ने उसका अपहरण कर गैंगरेप किया था. 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शाहजहांपुर में भाजपा विधायक रोशनलाल वर्मा और उनके बेटे पर दुष्कर्म का आरोप लगाकर पीड़िता परिजन के साथ धरने पर बैठी थी. पीड़िता की मांग थी कि उसे न्याय चाहिए. पीड़िता का कहना था कि अगर न्याय नहीं मिला तो वह कलेक्ट्रेट में आत्महत्या कर लेगी. हालांकि अधिकारियों ने पीड़िता को जल्द कार्रवाई का आश्वासन देकर धरना खत्म करा दिया है.

पीड़िता का आरोप है कि साल 2011 में विधायक रोशन लाल वर्मा के बेटे ने उसके साथ रेप ही नहीं किया बल्कि मारपीट कर उसे बंधक भी बनाए रखा. पीड़िता ने आरोप लगाया कि मामले में केस दर्ज होने के बावजूद बीजेपी विधायक रोशन लाल वर्मा और उसके बेटे मनोज वर्मा को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर रही है. पीड़िता लखनऊ के आला अफसरों के यहां भी इंसाफ की गुहार लगा चुकी है.

दरअसल साल 2011 में विधायक के बेटे और विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगा था. लेकिन पीड़िता के अनुसार, रेप के बाद विधायक ने साल 2012 में रेप केस से बचने के लिए अपने छोटे बेटे से उसकी शादी करा दी. महिला की शादी विधायक के छोटे बेटे विनोद वर्मा से 2012 में हुई. लेकिन एक साल बाद दोनों अलग हो गए.

 

महिला ने बताया कि दोनों की एक 5 साल की बेटी है जो मां के साथ रहती है. महिला ने बताया कि वह एक छोटे गांव से ताल्लुक रखती है, उसे विधायक के छोटे बेटे से शादी करने के लिए मना लिया गया था. हालांकि उसे जल्द ही यह मालूम हो गया था कि विधायक ने अपनी छवि और खुद व अपने बड़े बेटे के खिलाफ रेप केस से बचने के प्रयास में शादी कराई थी.

पढ़ें- पत्थरबाजी का शिकार हुए चेन्नई के टूरिस्ट की मौत, CM मुफ़्ती ने घटना को बताया शर्मनाक

वहीं इस मामले में पुलिस का कहना है कि साल 2011 में ही रोशन लाल और उनके बेटे मनोज वर्मा के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार), 363 (अपहरण) और 366 (किडनैपिंग, गैरकानूनी ढंग से उठाकर ले जाना और शादी के लिए मजबूर करना) के तहत मामला दर्ज किया गया था. हालांकि उनके खिलाफ कोई पर्याप्त सबूत न होने की वजह से अक्टूबर 2013 में केस बंद कर दिया गया था.

First published: 8 May 2018, 11:14 IST
 
अगली कहानी