Home » उत्तर प्रदेश » uttar pradesh: after controversy varanasi police deployed security for peepal tree
 

UP पुलिस पीपल के पौधे की 24 घंटे कर रही सुरक्षा, लोग बोले- साक्षात 'योगीजी' हैं

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2018, 13:01 IST
(File Photo )

उत्तर प्रदेश पुलिस अपने अजीब कारनामों को लेकर हमेशा चर्चा में बनी ही रहती है. कभी पुलिस को मंत्रीजी की भैंस की सुरक्षा में तैनात किया जाता है, तो कभी वह कभी मुर्दों को कब्र से बाहर निकालती है. अपराधियों को पकड़ने का भार तो पहले से ही उसके कंधों पर बना हुआ है. लेकिन अब उसको एक और अजीब ड्यूटी करनी पड़ रही है.

पुलिस के कंधों पर इन दिनों एक पीपल के पेड़ की सुरक्षा की जिम्मेदारी आन पड़ी है. जिसको  लेकर वह चर्चा में आ गई है. वाराणसी में एक पीपल के पौधे की सुरक्षा में दो पुलिसवालों को लगाया गया है. चौबीस घंटे पीपल के पेड़ की सुरक्षा की जा रही है. इतना ही नहीं सीसीटीवी से भी पीपल के पेड़ पर नजर रखी जा रही है. 

 

 

 

दरअसल, वाराणसी के अर्दली बाजार स्थित इमाम चौक के बगल में दशकों पुराना पीपल का वृक्ष हुआ करता था. वह कुछ दिन पहले गिर गया. उसकी जगह पर पीपल का नया पौधा लगाया गया. जिसको कुछ आसामाजिक तत्वों द्वारा दिया जा रहा था. इसको लेकर इलाके के लोगों ने पुलिस प्रशासन से पीपल के पेड़ की सुरक्षा की अपील की. जिसके बाद पुलिस के दो सिपाहियों को उस पीपल के पौधे की सुरक्षा में तैनात किया गया है.

File Photo

पुराने पीपल के पेड़ की सभी समुदाय द्वारा सालों से पूजा की जा रही थी, लेकिन पीपल का पेड़ गिर जाने के बाद नया पेड़ लगाने को लेकर दो समुदायों में विवाद हो गया है.  एक समुदाय का कहना है कि पेड़ को वहीं पर लगाया जाएगा. वहीं दूसरा पक्ष पीपल के पेड़ को रास्ते से हटाकर कुछ दूर आगे मैदान में लगाने की बात कर रहा है. जिसको लेकर विवाद पैदा हो गया है. अब विवाद को देखते हुए वाराणसी पुलिस को उस पीपल के पौधे की सुरक्षा में तैनात कर दिया है. 

ये पेड़ नहीं योगी जी हैं

दूसरे समुदाय के स्थानीय व्यक्ति ने कहा कि पेड़ लगाने को लेकर कोई विवाद नहीं है. हमारा बस इतना सा कहना है कि पेड़ को रास्ते से हटाकर दूसरी जगह लगा दिया जाए. उन्होंने कहा कि ये पीपल का पेड़ खुद योगी जी हैं. इसलिए इसकी सुरक्षा पुलिसवाले कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- कांवड़ यात्रा: यूपी पुलिस के खौफ से गांव छोड़कर भागे 70 मुस्लिम परिवार

First published: 16 September 2018, 13:01 IST
 
अगली कहानी