Home » उत्तर प्रदेश » uttar pradesh police namaz not at road yogi government
 

उत्तर प्रदेश: सड़कों पर नहीं पढ़ी जाएगी नमाज, न ही होगा कोई धार्मिक कार्यक्रम

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 August 2019, 14:29 IST

उत्तर प्रदेश पुलिस ने पूरे राज्य में सड़कों पर होने वाले जुमे की 'नमाज' पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है. पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी सिंह ने कहा, "विशेष अवसरों पर जब ज्यादा भीड़ एकत्र होती है, तो जिला प्रशासन द्वारा इसकी अनुमति दी जा सकती है, लेकिन हर जुमे की नमाज के दौरान इस प्रथा को नियमित रूप से करने की अनुमति नहीं दी जाएगी."

सभी जिला पुलिस प्रमुखों और अन्य अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सड़कों को अवरुद्ध करके नमाज अदा नहीं की जाए.

डीजीपी ने कहा कि शुरुआत में अलीगढ़ और मेरठ में भी इसी तरह का प्रतिबंध लगाया गया था और अब इसे पूरे राज्य में लागू करने की कोशिश की जा रही है. अलीगढ़ जिला प्रशासन ने पहले एक विस्तृत सर्कुलर जारी कर सड़कों पर नमाज अदा करने पर प्रतिबंध लगाया था, जिसके बाद इसे सफलतापूर्वक लागू किया गया.

डीजीपी ने बताया कि जिले के अधिकारियों को मौलवियों और मस्जिद प्रशासनों के साथ बैठक करने के लिए कहा गया था, ताकि उन्हें यह बताया जा सके कि सड़कों पर नमाज अदा करने से किस तरह यातायात बाधित होता है और अन्य समस्याएं पैदा होती हैं.

हालांकि जाने-माने सुन्नी मौलवी और ऑल-इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के सदस्य मौलाना खालिस राशिद फिरंगी महली ने कहा, "कुछ ही ऐसी मस्जिदें हैं, जहां मुस्लिम परिसर के बाहर नमाज अदा करते हैं. "

उन्होंने आगे कहा, "यहां तक की अतीत में भी हमने मुस्लिमों से अपील की है कि वे सड़क को बाधित कर नमाज अदा न करें."

रजनीकांत ने मोदी और शाह को बताया कृष्ण-अर्जुन, ओवैसी बोले- आप फिर से महाभारत चाहते हैं क्या

First published: 14 August 2019, 13:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी