Home » उत्तर प्रदेश » Vikas Dubey Encounter: SC raises questions on Yogi government demands accurate report
 

विकास दुबे एनकाउंटर: SC ने योगी सरकार को लगाई फटकार, कहा- सभी आदेशों की दें सटीक रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2020, 14:00 IST

Vikas Dubey Encounter: कानपुर के बहुचर्चित अपराधी विकास दुबे मामले में सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को फटकार लगाई है. विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर भी देश के सर्वोच्च न्यायालय ने सवाल उठा हैं. सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया कि इतने मामलों में वांछित अपराधी जमानत पर कैसे रिहा था.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम हैरान हैं कि आखिरकार उनसे इतने बड़े अपराध को अंजाम कैसे दे दिया. उत्तर प्रदेश की सरकार को फटकार लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सभी आदेशों की सटीक रिपोर्ट दें. यह सब कुछ सिस्टम की विफलता को दर्शाता है. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के कल तक नोटिफिकेशन पेश करने को कहा है.

दरअसल, यूपी सरकार ने कोर्ट के समक्ष कहा है कि वह जांच कमिटी के लिए नोटिफिकेशन जारी कर देंगे. इस कमेटी में एक रिटायर्ड सुप्रीम कोर्ट के अथवा हाईकोर्ट के जज तथा एक रिटायर्ड DGP होंगे. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कल तक नोटिफिकेशन पेश करने को कहा. यूपी सरकार के वकील से कहा CJI ने कहा कि वह सीएम और डिप्टी सीएम के बयानों पर भी गौर करें.

अयोध्या राम मंदिर निर्माण : भूमि पूजन के दौरान PM मोदी स्थापित करेंगे 40 किलो चांदी की शिला

गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर की सुनवाई पर पुलिस महानिदेशक की ओर से पेश वकील हरीश साल्वे ने कहा कि यह तेलंगाना मुठभेड़ से अलग मामला है. पुलिसकर्मियों को भी मौलिक अधिकार है. उन्होंने कहा कि पुलिस पर क्या तब अत्यधिक बल का आरोप लगाया जा सकता है जब वह खूंखार अपराधी के साथ लाइव मुठभेड़ में लगी हो?

हरीश साल्वे ने सुप्रीम कोर्ट के सामने बताया कि विकास दुबे ने बेहरमी से 8 पुलिसकर्मियों की हत्या की थी. इस पर CJI ने कहा कि हैदराबाद और विकास दुबे केस में एक बड़ा अंतर है. उन्होंने कहा कि इस जांच से कानून का शासन मज़बूत होगा. इससे पुलिस का मनोबल भी बढ़ेगा. इतने संगीन मुकदमों क आरोपी बेल पर रिहा था. कोर्ट ने विकास दुबे को जमानत संबंधी सारे आदेश मांगे.

 

First published: 20 July 2020, 14:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी