Home » उत्तर प्रदेश » World's Most Dangerous Snake nest near the gold mine found in Sonbhadra UP
 

सोनभद्र में मिली सोने की खदान के पास मौजूद हैं दुनिया के सबसे जहरीले सांप

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 February 2020, 10:11 IST

Sonbhadra Gold Mine: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सोनभद्र (Sonbhadra) में मिली सोने की खदान (Gold Mine) के पास दुनिया के सबसे खतरनाक सांपों (Dangerous Snake) के पाए जाने की खबर है. बताया जा रहा है कि जहां सोने की खदान होने की बात कही गई है. उसी के पास दुनिया के सबसे खतरनाक सांप हो सकते हैं. दरअसल, जहां सोने की खदान पाई गई है वहीं विंध्य पर्वत श्रृंखलाओं (Vindhya Mountain Ranges) के बीच सोनभद्र की पहाड़ियों में दुनिया के सबसे जहरीले सांपों की प्रजातियां भी मौजूद हैं.

इनमें रसेल वाइपर, कोबरा और करैत मौजूद हैं. वैज्ञानिकों के मुताबिक, सोनभद्र के सोन पहाड़ी क्षेत्र में पाए जाने वाली सांप की तीनों प्रजातियां इतनी जहरीली हैं कि किसी को काट ले तो उसे बचाना नामुमकिन है. बता दें कि सोनभद्र जिले के जुगल थाना क्षेत्र के सोन पहाड़ी के साथी दक्षिणांचल के दुद्धी तहसील के महोली विंढमगंज चोपन ब्लाक के कोन क्षेत्र में काफी संख्या में सांप पाए जाते हैं.

गौरतलब है कि, दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में से एक रसेल वाइपर की प्रजाति उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में ही पाई जाती है. बता दें कि पिछले दिनों सोनभद्र के पकरी गांव में हवाई पट्टी पर रसेल वाइपर को देखा गया था.  रसेल वाइपर जिले के बभनी म्योरपुर व राबर्ट्सगंज में देखा गया है. इसके अलावा दक्षिणांचल में भी यह नजर आया था. बता दें कि हाल ही में सोनभद्र के चोपन ब्लाक के सोन पहाड़ी में सोने की खदान मिलने के बाद इसकी जियो टैगिंग कराकर ई टेंडरिंग की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. ऐसे में विश्व के सबसे जहरीले सांपों की प्रजातियों के बसेरे पर संकट मंडराना भी लगभग तय है.

सांपों पर अध्ययन कर चुके विज्ञान डॉक्टर अरविंद मिश्रा का कहना है कि रसेल वाइपर विश्व के सबसे जहरीले सांपों में से एक है. इसका जहर हीमोटॉक्सिन होता है, जो खून को जमा देता है. काटने के दौरान यदि यह अपना पूरा जहर शरीर में डाल देता है तो मनुष्य की घंटे भर से भी कम समय में मौत हो जाती है. यही नहीं यदि जहर कम जाता है तो काटे स्थान पर घाव हो जाता है, जो खतरनाक साबित होता है. इसके अलावा कोबरा और करैत के जहर न्यूरोटॉक्सिन होते हैं, जिससे स्नायु तंत्र को शून्य कर देते हैं जिससे इंसान की मौत हो जाती है. कोबरा के काटे स्थान पर सूजन हो जाती है और करैत का दंश देखने से पता नहीं चलता है.

भारत के वर्तमान गोल्ड रिजर्व का पांच गुना है सोनभद्र में मिला 3000 टन सोना, GSI ने बताई इसकी कीमत

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को किया ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद

गिरिराज सिंह का बयान- 1947 में ही सभी मुसलमानों को भेज देना चाहिए था पाकिस्तान

First published: 22 February 2020, 10:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी