Home » उत्तर प्रदेश » UP CM Yogi Adityanath's Interview with doordarshan on 100 days of BJP government
 

नहीं माने तो यूपी में 'योगी के सैनिकों' पर लग सकता है रासुका

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2017, 16:41 IST
हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सख्त बयान दिया है. यूपी में अपनी सरकार के 100 दिन का रिपोर्ट कार्ड पेश करने के बाद दूरदर्शन को दिए इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने कई मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखी.  

सीएम योगी आदित्यनाथ ने दूरदर्शन को दिए साक्षात्कार में कहा, "सत्ता में आने के बाद अवैध खनन, अवैध बूचड़खानों को हमने रोका है. अवैध गतिविधियों पर लगाम लगी है. सभी की गतिविधियों पर हमारी नज़र है. भाजपा सरकार बनने के बाद अपराधी जेल में हैं."

योगी ने बरेली में लड़की को ज़िंदा जलाने के मामले में हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं पर आरोप लगने के मामले में कहा, "कानून के साथ खिलवाड़ करने की किसी को छूट नहीं मिलेगी. जो भी व्यक्ति कानून तोड़ेगा उस पर कड़ी कार्रवाई होगी. बरेली मामले में एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) लगा सकते हैं." बरेली में छेड़छाड़ का विरोध करने पर लड़की को ज़िंदा जला दिया गया था. इस मामले में हिंदू युवा वाहिनी के दो कार्यकर्ता गिरफ्तार हुए हैं.

'सहारनपुर हिंसा के पीछे अवैध खनन'

सीएम योगी ने सहारनपुर हिंसा पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "सहारनपुर हिंसा में वे ही लोग शामिल थे, जो अवैध काम कर रहे थे. अवैध काम से रोके जाने पर ही हिंसा हुई. भीम आर्मी के पीछे भी इस तरह के तत्व हैं, जिससे हिंसा को भड़काया गया. सहारनपुर में डीएम और एसपी ने मूर्खतापूर्ण काम किया."

मायावती के सहारनपुर दौरे पर योगी ने कहा, "बिना किसी कारण मायावती को जाने की मंजूरी दी गई. मैंने प्रशासन को फटकार लगाई थी. वे लोग हिंसा भड़काने में शामिल रहे हैं, वह वहां पर शांति कैसे ला सकती हैं. हमने एसपी पर सख्त कार्रवाई की. मुझे प्रदेश की 22 करोड़ जनता की चिंता है."

'एक भी सांप्रदायिक दंगा नहीं'

योगी ने पिछली समाजवादी सरकार को घेरते हुए कहा, "पिछली सरकार में हर हफ्ते एक दंगा होता था, लेकिन इस सरकार में एक भी सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ है."

साथ ही योगी ने कहा, "लोगों को सरकार पर भरोसा है, वह सरकार के कार्यक्रम में सहभागी बन रहे हैं. हमें कार्यसंस्कृति को पुर्नस्थापित करना है. हम लोग नई कार्यसंस्कृति को जन्म दे रहे हैं."

बूचड़खानों पर HC-NGT का निर्देश मान्य

अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई का मुद्दा यूपी की सियासत में छाया रहा था. योगी ने कहा, "हमने अवैध बूचड़खानों और एंटी रोमियो स्क्वाड पर सरकार बनने के 24 घंटे बाद ही काम करना शुरू कर दिया था. अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई करने से राज्य में अवैध गोकशी भी रुकी है. हाईकोर्ट का जो फैसला आएगा उसके मुताबिक काम करेंगे. एनजीटी और हाईकोर्ट के निर्देशों के तहत ही स्लॉटरिंग हो पाएगी,"

योगी ने कहा, "एंटी रोमियो दस्ते पर भी लोगों ने सवाल उठाए थे, लेकिन महिलाओं का समर्थन मिला था. इस पर आगे भी काम चलता रहेगा." योगी ने कहा कि जब हमने सत्ता संभाली थी, तब यहां पर अराजकता-जंगलराज था. यहां पर भू-माफिया लोगों की जमीनों पर कब्जा कर रहे थे., लेकिन अब एंटी भू-माफिया टास्क फोर्स बनाने के बाद अवैध कब्जों को हटाया गया है.

एंटी रोमियो स्क्वाड के पास 8.55 लाख मामले 

एंटी रोमियो दस्ते पर योगी ने कहा, "इसमें 8 लाख 55 हजार मामले दर्ज किए थे, पुलिस के पास ऐसा कोई पैमाना नहीं है जिससे वह पहचान कर सके कि कौन अपराधी है. इनमें से 3 लाख से ज्यादा मामले सही निकले थे. बाकी में कई लोगों के अभिभावकों को बुलाकर बात भी की गई थी." 

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ ने 19 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की शपथ ली थी. मंगलवार को योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के लोक भवन में भाजपा सरकार के 100 दिन का रिपोर्ट कार्ड देते हुए मीडिया से बातचीत की थी. इस दौरान '100 दिन विश्वास के' नाम से एक बुकलेट भी जारी की गई.

First published: 28 June 2017, 16:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी