Home » उत्तर प्रदेश » yogi government unable to stop communal riots in kasganj up
 

कासंगज में हिंसा काबू नहीं कर पा रही है योगी सरकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 January 2018, 10:39 IST

यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद आए दिन सांप्रदायिक हिंसे हो रहे हैं जिसे रोकने में योगी सरकार नाकाम साबित हो रही है. पिछले तीन दिनों से हिंसे की आग में जल रहे यूपी के कासगंज में रविवार की सुबह भी बवाल जारी है. रविवार की सुबह उपद्रवी तत्वों ने एक दुकान में आग लगा दी.

गणतंत्र दिवस वाले दिन तिरंगा यात्रा निकालने के दौरान दो गुटों में हुई झड़प ने हिंसा का रूप ले लिया. इसमें एक युवक की मौत हो गई थी. जिसके बाद पूरे इलाके में तनाव बना हुआ है. पूरे शहर में धारा 144 लागू करने के साथ ही कई इलाकों और नेटवर्क की इंटरनेट सेवा ठप कर दी गई हैं. हालांकि हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है.

 

मौके का जायजा लेने पहुंचे एटा के DM आरपी सिंह ने बताया कि अब तक हिंसा फैलाने के आरोप में नामजद 9 लोगों सहित अब तक कुल 50 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. आरपी सिंह ने कहा कि इन सबके पीछे कुछ लोग हैं, हमने उनमें से कुछ की पहचान कर ली है.

उन्होंने बताया कि रविवार को हुई हिंसा की किसी घटना में एक भी व्यक्ति घायल नहीं हुआ है. उनका कहना है कि इस सबके पीछे साजिश हो सकती है, हालांकि मुझे इस बारे में नहीं मालूम है.

इससे पहले कर्फ्यू लगाने और भारी सुरक्षा बलों की तैनाती के बावजूद शनिवार को भी कासगंज हिंसा की आग में जलता रहा. उपद्रवियों ने बसों और कई अन्य वाहनों में आग लगा दी थी.

 

दूसरी ओर एडीजी आनंद कुमार ने शनिवार को दावा किया था कि कासगंज में शुक्रवार के बाद कोई हिंसा नहीं हुई है. किसी के जान का कोई नुकसान नहीं हुआ है. उनका कहना था कि कुछ उपद्रवी तत्वों ने शनिवार को चंदन के दाह संस्कार के बाद एक बस में आग लगाने की कोशिश की.

एक झोपड़ी जलाने की कोशिश की. लेकिन इसे कंट्रोल कर लिया गया है. उपद्रवी तत्वों की तरफ से अफवाह फैलाने की कोशिश हुई है. सोशल मीडिया में भी अफवाह फैलाने की कोशिश की गई है, लेकिन इसे सफलतापूर्वक रोका गया है.

वहीं हिंसा में शुक्रवार को दम तोड़ने वाले युवक चंदन गुप्ता के पिता द्वारा जिन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है, उनमें से भी तीन लोग गिरफ्तार कर लिए गए हैं. उपद्रवियों में शामिल अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए विशेष टीम गठित की गई है.

First published: 28 January 2018, 10:39 IST
 
अगली कहानी