Home » वायरल न्यूज़ » Catch Fact Check: Are workers traveling on the roof of the train during the lockdown?
 

कैच फैक्ट चेक: क्या लॉकडाउन के दौरान मजदूर ट्रेन की छत पर सवार होकर कर रहे हैं यात्रा ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 May 2020, 16:10 IST

Coronavirus : कोरोना वायरस महामारी के लगातार बढ़ते मामलों बीच देशभर में 31 मई तक लॉकडाउन की घोषणा की गई है. भारत में कोरोना वायरस के मामले एक लाख पार कर गए हैं. देश के कई हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के लिए सरकार द्वारा स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं. देशभर में श्रमिकों के पैदल घर जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही हैं. इस तस्वीरों की आड़ में ट्रेन से जुड़ी झूठी और भ्रामक खबरें भी तेजी से फैलाई जा रही है.

व्हाटएसएप पर एक मैसेज तेजी से वायरल किया जा रहा है. इस वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि मुंबई से पश्चिम बंगाल जाने वाली श्रमिक ट्रेनों के ऊपर मजदूर सफर करने को मजबूर हैं. आइये जानते हैं इसकी सच्चाई क्या है.

दावा- लॉकडाउन में श्रमिक ट्रेन के ऊपर बैठकर सफर करने को मजबूर हैं

तथ्य- यह पुराना वीडियो है और इससे गलत तरीके से पेश किया जा रहा है

कैच फैक्ट चेक: सरकार ने COVID-19 के कारण प्रभावित कलाकारों को राहत पैकेज देने की घोषणा की है ?

वायरल मैसेज की सच्चाई

हमारी फैक्ट चेक टीम ने जब इस वायरल तस्वीर की पड़ताल शुरू की तो सामने आया कि यह वीडियो दो साल पुराना है. लॉकडाउन से इस वीडियो का कोई लेना देना नहीं है. हमारी फैक्ट चेक टीम ने इस वीडियो को गूगल कीवर्ड पर सर्च किया जिसमें इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं हुई. पड़ताल में सामने आया यह वीडियो 2018 में बांग्लादेश में ईद के दौरान का है, जिसमें लोग ट्रेन की छत और ट्रेन के आगे बैठकर सफर करते दिख रहे हैं.

कैच फैक्ट चेक : तीन दशक तक श्रम विभाग में मजदूरी करने वाले श्रमिकों को मिल रहे हैं 120000 रुपये ?


पीआईबी ने वीडियो को गलत बताया

प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने इस वीडियो को पूरी तरह से गलत बताया है. पीआईबी का कहना है कि यह वीडियो 2018 में बांग्लादेश का है, जिसमें  में लोग ट्रेन पर चढ़कर यात्रा कर रहे हैं. लॉकडाउन से इसका कोई लेना देना नहीं है. लॉकडाउन से जोड़कर इसे प्रसारित किया जा रहा है जो पूरी तरह से गलत है.

कैच फैक्ट चेक : क्या लॉकडाउन के दौरान लोगों ने नीतीश कुमार के काफिले पर पत्थर बरसाए ?

First published: 19 May 2020, 16:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी