Home » वायरल न्यूज़ » Catch Fact Check: Did RSS chief Mohan Bhagwat say - Corona broke my faith in religion?
 

कैच फैक्ट चेक: क्या RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कहा- कोरोना ने तोड़ी धर्म में मेरी आस्था

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 May 2020, 16:37 IST

कोरोना वायरस माहमारी के बीच कई फर्जी खबरें सोशल मीडिया पर वायरल की जा रही हैं. ऐसी ही एक खबर संघ प्रमुख मोहन भागवत को लेकर वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया गया है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने बयान दिया है कि कोरोन वायरस (coronavirus ) ने धर्म के प्रति उनकी आस्था कम कर दी है. यह मैसेज अख़बार की एक कटिंग के रूप में वायरल किया जा रहा है. इस मैसेज के बाद सोशल मीडिया पर कई लोग संघ प्रमुख पर सवाल उठा रहे हैं. हालांकि आरएसएस ने इस दावे को फर्जी करार दिया है.

दावा: संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि कोरोना ने धर्म में मेरी आस्था तोड़ दी है

तथ्य: संघ प्रमुख भागवत ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया

वायरल मैसेज

व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल प्लेटफॉर्म पर एक अखबार की कटिंग को फॉरवार्ड किया जा रहा है. लोग यह जानना चाहते हैं क्या सच में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने ऐसा बयान दिया है.

क्या है वायरल मैसेज की सच्चाई ?

हमारी फैक्ट चेक टीम ने जब इसकी पड़ताल की तो सच्चाई हमारे सामने थी. यहां तक कि गूगल न्यूज़ पर भी ऐसी किसी खबर की पुष्टि नहीं होती है. हमारी फैक्ट फाइंडिंग टीम ने RSS और उनके पदाधिकारियों के ट्विटर हैंडल को भी खंगाला, ट्विटर के अडवांस्ड सर्च टूल का इस्तेमाल किया जहां ऐसा कोई ट्वीट नहीं मिला. उसके बाद अखबार की कटिंग को जब गौर से देखा तो मालूम चला कि इसे फोटोशॉप के जरिए संघ प्रमुख की फोटो लगाकर तैयार किया गया है.


RSS के पदाधिकारी ने किया खंडन

हमारी सहयोगी वेबसाइट पत्रिका को पड़ताल के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेंद्र कुमार का एक ट्वीट मिला. 19 मई को किए गए ट्वीट में लिखा गया था ''रा.स्व.संघ के पू.सरसंघचालक @DrMohanBhagwat जी के नाम पर सोशल मीडिया में एक फेक न्यूज़ चल रही है. पू.सरसंघचालक जी ने ऐसा कोई वक्तव्य नहीं दिया है. यह समाज तोड़ने वाली शक्तियों का अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए समाज में अनास्था, अराजकता और समाज विघटन के प्रयास का एक षड्यंत्र है.''

इस स्पष्टीकरण के बाद साफ हुआ कि जिस अखबार की कटिंग को सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है, वह फर्जी है. आरएसएस प्रमुख ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है.

लॉकडाउन का पालन करना जरूरी

गौरतलब है कि 26 अप्रैल को संघ प्रमुख मोहन भागवत मीडिया के सामने आये थे. उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस पूरी दुनिया के लिए नई बीमारी है. इस समय मानवता में विश्वास करने वाले सभी लोग एकजुट होकर इस संक्रमण का मुकाबला कर रहे हैं. कोरोना से जंग घर में रहकर ही जीती जा सकती है और इसके लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है. 

 कैच फैक्ट चेक: क्या लॉकडाउन के दौरान मजदूर ट्रेन की छत पर सवार होकर कर रहे हैं यात्रा ?

उन्होंने सभी लोगों से घर में रहकर लॉकडाउन पालन करने की अपील भी की. मोहन भागवत ने कहा कि हमारा समाज है, ये हमारा देश है, इसलिए काम कर रहे हैं. कुछ बातें सभी के लिए स्पष्ट है और सबकुछ सटीक रूप से किसी को पता नहीं है. ऐसे में सावधानी बरतकर काम करें. स्वयंसेवक को कभी भी थकना नहीं चाहिए और प्रयास करते रहना चाहिए.

कैच फैक्ट चेक : क्या लॉकडाउन के दौरान लोगों ने नीतीश कुमार के काफिले पर पत्थर बरसाए ?

First published: 22 May 2020, 16:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी