Home » वायरल न्यूज़ » Catch Fact Check: Do workers in quarantine center refuse to eat Dalit woman's hand food?
 

कैच फैक्ट चेक: क्या क्वारंटाइन सेंटर में मजदूरों ने दलित महिला के हाथ का खाना खाने से इनकार कर दिया ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2020, 16:26 IST

Coronavirus fact Check: कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान देश के कई हिस्सों से मजदूर अपने गृह राज्य बिहार लौटे हैं. स्पेशल ट्रेनों से भी बड़ी संख्या में मजदूरों को लाया गया है. वापस लौटे मजदूरों के लिए राज्यों ने संस्थागत क्वारंटाइन सेंटरों में रखने के नियम लागू किये गए हैं. इस दौरान क्वारंटाइन सेंटरों के वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल किये जा रहे हैं. एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमे एक शख्स खाने को लात मारकर गिरा देता है और सामने खड़ी महिला पर जोर-जोर से चिल्ला रहा है.

शेयर किये गए वीडियो के साथ लिखी पोस्ट में दावा किया गया है कि क्वारंटीन सेंटर पर मेरिटधारी ने दलित महिला के हाथ से बना खाना खाने से इनकार कर दिया था. (मेरिट धारी शब्द का इस्तेमाल उच्च जाति के लोगों के लिए किया गया है)

वायरल वीडियो का दावा

यह वीडियो व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो शेयर कर एक ट्विटर यूजर ने लिखा ''मेरिटधारी ने दलित महिला के हाथ का बना खाना खाने से इनकार कर दिया. ये कैसा एरोगेंस है''. खबर लिखे जाने तक यह वीडियो को 6 हजार से ज्यादा बार रिट्वीट किया जा चुका था. जबकि 4 लाख 25 हजार से ज्यादा इस वीडियो को देख चुके थे. फेसबुक पर 'ऑवर नेशन_47' नाम के पेज पर इस वीडियो को 21 मई की शाम 6:30 बजे पोस्ट किया गया, इसमें दावा किया जा रहा है कि शीराज अहमद और भुजोली कुर्द ने दलित महिला के हाथ से बना खाना खाने से इनकार कर दिया.

क्या है वायरल वीडियो का सच

जब हमारी फैक्ट चेक टीम ने जब इस वीडियो की पड़ताल शुरू की सच्चाई कुछ और ही सामने आयी. इस वीडियो में स्कूल का नाम और जगह दिख रही है. यह वीडियो बिहार के मधबुनी जिले के मधवापुर का है. इससे संबंधित कुछ कीवर्डस सर्च करने पर कुछ स्थानीय पोर्ट्लस में इससे संबंधित खबर मिली. ख़बरों के मुताबिक मध्य विद्यालय साहरघाट में 25 प्रवासी मजदूर क्वारंटाइन में रखे गए थे.


कैच फैक्ट चेक: क्या RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कहा- कोरोना ने तोड़ी धर्म में मेरी आस्था

कैच फैक्ट चेक: क्या लॉकडाउन के दौरान मजदूर ट्रेन की छत पर सवार होकर कर रहे हैं यात्रा ? 

सेंटर पर खाना बनाने वाली महिला ने खाना बनाकर थाली में परोसकर एक बेंच पर रख दिया. वहां कुछ मजदूरों ने बिना सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किए एक साथ बैठाकर खाना खिलाने की मांग की. महिला ने बैठाकर खाना खिलाने से इंकार कर दिया, जिसपर कुछ मजदूरों ने गुस्से में आकर खाने को लात मारकर गिरा दिया और महिला पर चिल्लाने लगे.

तीन मजदूरों के खिलाफ मामला दर्ज

इस मामले में तीन प्रवासी मजदूरों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पंकज कुमार राय, मनोज राय और अशोक साहू पर केस दर्ज कर जांच शुरू की गई है. सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट में दलित महिला के हाथ से बना खाने को लेकर नहीं , बल्कि कुछ मजदूरों को बैठाकर नहीं खिलाया गया उसको लेकर हंगामा शुरू कर दिया गया." इससे साफ है कि वीडियो में किया जा रहा दावा गलत है.

कैच फैक्ट चेक : क्या 19 साल से मौजूद है कोरोना वायरस की दवा ? जानिए वायरल पोस्ट की सच्चाई

First published: 25 May 2020, 16:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी