Home » वायरल न्यूज़ » White Crocodile Bathing Video Goes viral in Social Media
 

इस सफेद मगरमच्छ की ऐसे होती है खातिरदारी, वीडियो देखकर रह जाएंगे दंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 February 2020, 16:02 IST

White Crocodile Bathing Video: आपने अबतक मगरमच्छ (Crocodile) को किसी जू (Zoo), तालाब (Pond) या फिर किसी नदी (River) में देखा होगा. जहां वो आराम से तैरते (Swiming) दिखाई दिए होंगे. आज हम आपको एक ऐसे मगरमच्छ का वीडियो (Video) दिखाने जा रहे हैं जो किसी नदी में नहीं रहता, बल्कि एक जू में रहता है जहां उसकी खूब सेवा की जाती है. इस मगरमच्छ का एक वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) में तेजी से वायरल (Viral) हो रहा है.

ये एक सफेद मगरमच्छ (White Crocodile) है. मगरमच्छ का ये वीडियो अमेरिका (America) के नॉर्थ कैरोलिना (North Carolina) स्थित एक जू का है. जहां इसके सफेद (White) होने की वजह से इसे खास ट्रीटमेंट (Treatment) दिया जाता है. यही नहीं इस सफेद मगरमच्छ को यहां कड़ी निगरानी और देखरेख में रखा जाता है.


यही नहीं इस मगरमच्छ की रोजाना सफाई भी होती है यानी इसे अच्छे नहलाया जाता है. उसे नहलाने के लिए रोजाना उसे ब्रश से साफ किया जाता है. यही नहीं खातिरदारी भी ठाठ-बाट से होती है. यह बाकी सभी मगरमच्छ से अलग है. बता दें कि ये मगरमच्छ सामान्य प्राकृतिक अवस्था में जीवित नहीं रह पाता है. धूप में इसकी स्कीन जलने लगती है जिसके चलते ये पानी के अंदर ही रहता है बाकी मगरमच्छों की तरह ये धूप में नहीं रह सकता. जिस पानी में वो रहता है उसे भी कुछ दिनों के अंतर में लगातार बदला जाता है.

बता दें कि इस मगरमच्छ का नाम लूना है. जो अलबिनो यानी सफेद बीमारी से ग्रसित है. इसकी सामान्य उम्र 14 साल की होती है दुनिया में अलबिनो मगरमच्छ बेहद दुर्लभ हैं. अमेरिका की शिकागो जूलॉजिकल सोसाइटी के मुताबिक, पूरी दुनिया में केवल 100 अलबिनो मगरमच्छ हैं. बता दें कि अलबिनो एक विशेष तरह की जेनेटिक बीमारी है, जो किसी भी जीव-जंतु या व्यक्ति को हो सकती है. इसमें शरीर के सभी अंगों के साथ बाल, आंखों के बाल सब सफेद हो जाते हैं है. इस बीमारी को रंगहीनता भी कहा जाता है.

यहां मिले 46,000 साल पुराने पक्षी के अवशेष, देखकर वैज्ञानिक भी हो गए हैरान

ये है पृथ्वी का सबसे खूबसूरत स्थान, जहां जिंदा नहीं रह सकता इंसान

सोनभद्र ही नहीं बिहार में इस जगह छिपा है लाखों टन सोना लेकिन इस तक पहुंचना है नामुमकिन

First published: 23 February 2020, 16:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी