Home » अजब गजब » Baikal Lake: where stones are hanging in the air, know about it’s mystery
 

ये है दुनिया की सबसे अनोखी झील, जिसके ऊपर हवा में लटके हैं पत्थर

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 November 2021, 15:59 IST

पूरी दुनिया रहस्यों से भरी हुई है. जिन्हें आज तक इंसान सुलझा नहीं पाया. आज हम आपको एक ऐसे रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी. आज हम आपको दुनिया की सबसे बड़ी झील के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसके ऊपर हवा में बिना किसी सहारे तमाम पत्थर लटके हुए हैं. बता दें कि दुनिया की इस सबसे बड़ी झील के ऊपर सर्दियों के मौसम में कई पत्थर हवा में ऐसे लटक जाते हैं, जैसे कोई पानी की बूंद हो.  बता दें कि इन पत्थरों को दूर से देखकर ऐसा लगता है जैसे कि ये हवा में लटक रहे हों, लेकिन अब इसका रहस्य खुल गया है. दरअसल, यह प्रकृति का एक अनोखा राज था जिसको इससे पहले तक कोई जान नहीं पाया था.

असल में ये पत्थर बर्फ की बेहद पतली और नाजुक नोक पर टिके होते हैं. लेकिन अब वैज्ञानिकों ने इस रहस्य को सुलझा लिया है.  बता दें कि आम तौर पर पत्थर पानी में डुब जाते हैं, लेकिन रूस के साइबेरिया में स्थित दुनिया की सबसे बड़ी झील 'लेक बैकाल' में सर्दियों के मौसम में एक अलग ही नजारा देखने को मिलता है. यहां पानी पर पत्थर टिके हुए नजर आते हैं.


दरअसल, बैकाल झील में जब सर्दियों के मौसम में बर्फ जमती है तो वो अलग-अलग आकृतियों में तब्दील हो जाती है. इसमें से एक प्रक्रिया है सब्लिमेशन, मतलब कि बर्फ का ऊपर की तरफ आ जाना. सर्दियों के समय जैसे ही तापमान नीचे गिरता है, पानी बर्फ में बदल जाता है और अगर झील के नीचे से ऊपर की तरफ किसी तरह का सब्लिमेशन होता है तो उसके ऊपर मौजूद वस्तु बाहर आ जाती है और वो हवा में लटकती हुई दिखाई देती है.

इस स्थान से गुजरने वाले विमान हो जाते हैं क्रैश, बरमूडा ट्राएंगल जैसी है ये जगह

इस झील के ऊपर हवा में लटके हुए पत्थरों पर नासा के एम्स रिसर्ट सेंटर के साइंटिस्ट जेफ मूर का कहना है कि ये परिभाषा गलत है कि बर्फ के जमने से ये पत्थर ऊपर टिक गए, क्योंकि झीले के अंदर तक बर्फ नहीं जमती बल्कि ऊपर जमती है. नीचे पानी का बहाव होता है और बहता हुआ पानी किसी भी भारी वस्तु को ज्यादा नहीं हिला सकता जब तक बहाव में तेजी न हो.

ये है दुनिया का सबसे अनोखा शहर, जहां नहीं हुई सात दशक से किसी की मौत

First published: 10 November 2021, 15:59 IST
 
अगली कहानी