Home » अजब गजब » Bihar Amarjeet Sada India Youngest child serial killer
 

8 साल का वो सीरियल किलर जो मजे के लिए करता था कत्ल, पुलिस को सुनाई थी खौफनाक कहानी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 July 2020, 21:12 IST

साल 2007 बिहार के भगवानपुर पुलिस स्टेशन में फोन बजा, यह फोन बिहार के एक छोटे से गांव से आया था, ग्रामीणों ने पुलिस को सूचित किया कि उन्होंने एक निर्दयी हत्यारे को पकड़ लिया है. उन्होंने अपराधी को पकड़ने के लिए पुलिस को गांव में आने के लिए कहा, पुलिस तुरंत गांव में पहुंची. इसके बाद भी पूरे विश्व को एक सीरियल किलर के बारे में पता चला. ग्रामिणों ने एक आठ साल के लड़के जिसका नाम अमरजीत सदा (कुछ रिपोर्टों में अमरदीप सदा) को पुलिस के हवाले किया.

अमरजीत सदा का जन्म 1998 में बिहार के बेगूसराय जिले में हुआ थ. बाद में परिवार मुसहरी गांव चला गया. परिवार बेहद गरीब था और गरीबी में ज्यादातर दिन बिताए थे. अमरजीत के पिता एक गरीब किसान थे. जब ग्रामिणों ने पुलिस के हवाले बच्चे को किया तब पुलिस ने ग्रामीणों को फटकार लगाते हुए पूछा था कि इतने कम उम्र का लड़का कैसे जघन्य अपराध कर सकता है. हालांकि, ग्रामीणों से सच्चाई जानने पर पुलिसकर्मी हैरान रह गए. पुलिस वालों को भरोसा नहीं हो रहा था कि गाँव में जो हत्याएं हुई उसके पीछे यह लड़का था. वहीं जब खुद इस बच्चे ने पुलिस को बताया कि उसने ही कत्ल को अंजाम दिया है तो उसके भी होश उड़ गए.


पुलिस को सबसे ज्यादा हैरानी इस बात से थी कि अमरजीत की शिकार छह महीने की बच्ची थी. चुंग चुंग देवी नाम की एक महिला ने घर का काम करने के लिए घर लौटने से पहले पास की प्राइमरी स्कूल में अपनी सोती हुई बेटी को लिटा दिया था. हालाँकि, जब वह स्कूल वापस आई तो माँ को अपनी बेटी खुशबू का पता नहीं चला. तब तक, अमरजीत पहले ही छोटी खुशबू का मौत के घाट उतार चुका था. जब मोहल्ले के लोगों ने उसे पकड़ लिया और उससे पूछताछ की, तो अमरजीत ने बिना पछतावे के अपना गुनाह कबूल कर लिया.

हालांकि, यह पहली बार नहीं था जब उसने हत्या की थी. उसने कबूल किया कि उसने इससे पहले 6 महीने और एक साल की उम्र के दो और शिशुओं को मार दिया था. अमरजीत की उम्र सिर्फ 7 साल थी जब उसने पहली बार हत्या की थी. ग्रामीणों को तब और जोरदार झटका लगा जब उन्हें पता चला कि, अमरजीत ने अपनी ही बहन की हत्या की थी, जो सिर्फ एक साल की थी. अमरजीत ने बताया था कि जब वो अपनी बहन को मौत के घाट उतारने लेकर गया था तब वो शांति से अपनी मां की गोद में सो रहा था.

बताया जाता है कि अमरजीत ने एक बच्चे को एक सुनसान खेत में ले जाकर पत्थर मार-मार कर उसकी हत्या कर दी थी, और जब वो घर गया तो उसके परिवार वालों ने पूछा कि आखिर उसकी बहन कहा हैं तो इस पर वह उन्हें खेत में ले गया और उन्हें उसके मृत शरीर को दिखाया जो घास और सूखे पत्तों में ढका हुआ था. कई रिपोर्ट में दावा किया जाता है कि अमरजीत के परिवार को शुरूआत से ही उसके बारे में सब कुछ पता था लेकिन वो उसे बचाने में लगे हुए थे.

वहीं जब पुलिस अमरजीत को पकड़ कर अपने साथ लेकर थाने आई और वहां उससे पूछताछ करने लगी तो उसने कहा कि उसे भूख लगी है और उसे खाने के लिए विस्कुट चाहिए. इसके बाद पुलिस उसे बिस्कुट दे रही थी और वो एक एक करके खुलासे करते जा रहा था जिससे पुलिस भी हैरान थी. अमरजीत ने पुलिस को बताया कि उसे लोगों को मारने में मजा आता था इसीलिए उसने बच्चों को कत्ल किया था.

जब एक डकैत ने अकेले ही तीन दिनों तक उत्तर प्रदेश पुलिस को 'पिलाया था पानी', हुई थी दर्दनाक मौत

First published: 6 July 2020, 21:10 IST
 
अगली कहानी