Home » अजब गजब » Garhkundhar Fort: The whole procession had disappeared in this fort, its secret has not been known till date
 

इस किले में गायब हो गई थी पूरी बारात, आजतक नहीं चला इसके रहस्य का पता

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 August 2021, 13:59 IST

हमारे देश में ऐसे तमाम किले आज भी मौजूद हैं जिन्हें रहस्यमयी किलों के रूप में जाना जाता है. इन्ही में से एक किला है गढ़कुंड़ार का किला. इस किले को देश के सबसे रहस्यमयी किले केे नाम से जाना जाता है. गढ़कुंडार का किला का किला उत्तर प्रदेश के झांसी शहर से करीब 70 किलोमीटर की दूरी स्थित है.

इस किले को 11वीं सदी में बनाया गया थाये किला पांच मंजिला हैजिसकी तीन मंजिल ऊपर और दो मंजिल जमीन के अंदर हैंइस किले को कब बनाया गया और किसने बनाया इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिलतीलेकिन इस किले को 1500 से 2000 साल पुराना माना जाता है.


सुरक्षा की दृष्टि से बना ये किला लोगों को भ्रमित कर देता हैइस किले को ऐसे बनाया गया है कि यह चार-पांच किलोमीटर दूर से तो साख दिखता हैलेकिन नजदीक आते-आते यह दिखना बंद हो जाता हैजिस रास्ते से किला दूर से दिखता हैअगर उसी रास्ते से आप आएंगे तो रास्ता किले की बजाय कहीं और ही चला जाता हैजबकि किले के लिए दूसरा रास्ता है.

इस किले की गिनती देश के सबसे रहस्यमयी किलों में होती हैस्थानीय लोग बताते हैं कि काफी समय पहले यहां पास के ही गांव में एक बारात आई थीबाराती किले में घूमने चले गएघूमते-घूमते वो लोग बेसमेंट में चले गएजिसके बाद वो रहस्यमयी तरीके से अचानक गायब हो गएबारात में शामिल उन 50-60 लोगों का आज तक कोई पता नहीं चलाइसके बाद भी कुछ इस तरह की घटनाएं हुईंजिसके बाद किले के नीचे जाने वाले सभी दरवाजों को बंद कर दिया गया.

ये है दुनिया की सबसे रहस्यमयी घाटी, जिसमें जाने वाला कभी नहीं आता वापस

गढ़कुंडार का किला किसी भूल-भुलैया की तरह हैइस किले में जाने वाले लोग अक्सर भटक जाते हैंइस किले में दिन में भी अंधेरा रहता है इसलिए लोग दिन में भी जाने से कतराते हैंऐसा माना जाता है कि इस किले में एक खजाने का रहस्य छिपा हुआ हैजिसे तलाशने की चक्कर में कई लोगों की जान जा चुकी हैजानकार बताते हैं कि यहां के राजाओं के पास सोने-हीरेजवाहरातों की कोई कमी नहीं थीजो आज भी इस किले में दबा हुआ है लेकिन इसकी खोज आजतक कोई नहीं कर सका.

जब एक तरबूत के लिए हुआ था भयंकर युद्ध, सैकड़ों सैनिकों की गई थी जान

First published: 26 August 2021, 13:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी